Adbhut Ras (अदभुत रस) – Hindi Grammar

Adbhut Ras (अदभुत रस)

इसका स्थायी भाव आश्चर्य होता है जब ब्यक्ति के मन में विचित्र अथवा आश्चर्यजनक वस्तुओं को देखकर जो विस्मय आदि के भाव उत्पन्न होते हैं उसे ही अदभुत रस कहा जाता है इसके अन्दर रोमांच, औंसू आना, काँपना, गद्गद होना, आँखे फाड़कर देखना आदि के भाव व्यक्त होते हैं।

Adbhut Ras

उदाहरण:

Adbhut Ras ke Udaharan

1.
देख यशोदा शिशु के मुख में, सकल विश्व की माया
क्षणभर को वह बनी अचेतन, हिल न सकी कोमल काया
2.
देखरावा मातहि निज अदभुत रूप अखण्ड
रोम रोम प्रति लगे कोटि-कोटि ब्रह्माण्ड
3.
अखिल भुवन चर- अचर सब
हरि मुख में लखि मातु।
चकित भई गद्गद् वचन
विकसित दृग पुलकातु॥
4.
चित अलि कत भरमत रहत कहाँ नहीं बास।
विकसित कुसुमन मैं अहै काको सरस विकास।

रस के प्रकार/भेद

क्रम रस का प्रकार स्थायी भाव
1 श्रृंगार रस रति
2 हास्य रस हास
3 करुण रस शोक
4 रौद्र रस क्रोध
5 वीर रस उत्साह
6 भयानक रस भय
7 वीभत्स रस जुगुप्सा
8 अद्भुत रस विस्मय
9 शांत रस निर्वेद
10 वात्सल्य रस वत्सलता
11 भक्ति रस अनुराग

Related Posts

वाक्य के भेद – Vakyo ke bhed in hindi with example

कर्ता और क्रिया के आधार पर वाक्य के भेद कर्ता और क्रिया के आधार पर वाक्य के दो भेद होते हैं- उद्देश्य  विधेय जिसके बारे में बात की जाय उसे उद्देश्य कहते हैं…

Read more !

Bhakti Ras (भक्ति रस) – Hindi Grammar

Bhakti Ras (भक्ति रस) इसका स्थायी भाव देव रति है इस रस में ईश्वर कि अनुरक्ति और अनुराग का वर्णन होता है अर्थात इस रस में ईश्वर के प्रति प्रेम…

Read more !

Anupras alankar, अनुप्रास अलंकार की परिभाषा, भेद,उदाहरण सहित

अनुप्रास अलंकार जिस रचना में व्यंजनों की बार-बार आवृत्ति के कारण चमत्कार उत्पन्न होता है वहां पर अनुप्रास अलंकार होता है।  अनुप्रास अलंकार की परिभाषा-Definition Of Anupras Alankar जिस रचना…

Read more !

Upma alankar – उपमा अलंकार किसे कहते हैं उदाहरण सहित व्याख्या

उपमा अलंकार उपमा अलंकार की परिभाषा-Definition Of Upma Alankar जहाँ पर पर दो वस्तुओं या पदार्थों में भिन्नता होते हुए भी उनकी समता की जाए या किसी वस्तु के वर्णन…

Read more !

सयुंक्त व्यंजन – Sanyukt Vyanjan

सयुंक्त व्यंजन (Mixed Consonants) वैसे तो जहाँ भी दो अथवा दो से अधिक व्यंजन मिल जाते हैं वे संयुक्त व्यंजन कहलाते हैं, किन्तु देवनागरी लिपि में संयोग के बाद रूप-परिवर्तन…

Read more !