Atishyokti Alankar – अतिशयोक्ति अलंकार, Hindi Grammar

अतिशयोक्ति अलंकार

अतिशयोक्ति अलंकार की परिभाषा-Definition Of Atishyokti Alankar

काव्य में जहां किसी योग्य व्यक्ति की योग्यता अर्थात सुंदरता, वीरता और उदारता को बढ़ा चढ़ाकर लोक सीमाओं का उल्लंघन करते हुए वर्णन प्रस्तुत किया जाए तो वहां पर अतिशयोक्ति अलंकार होता है।
Or
जहां किसी वस्तु पदार्थ अथवा कथन (उपमेय)का वर्णन लोक सीमा से बढ़कर प्रस्तुत किया जाए, वहां अतिशयोक्ति अलंकार होता है।

अतिशयोक्ति अलंकार के उदाहरण-

भूप सहस दस एकहि बारा।
लगे उठावन टरत न टारा। ।

धनुर्भंग के समय दस हज़ार राजा एक साथ ही उस धनुष (शिव-धनुष) को उठाने लगे, पर वह तनिक भी अपनी जगह से नहीं हिला। यहां लोक सीमा से अधिक बढ़ा चढ़ा कर वर्णन किया गया है, अतएव अतिशयोक्ति अलंकार होगा।

अतिशयोक्ति अलंकार के अन्य उदाहरण-

1.
बालों को खोल कर मत चला करो दिन में
रास्ता भूल जाएगा सूरज !
2.
आगे नदियां पड़ी अपार,
घोड़ा कैसे उतरे पार।
राणा ने सोचा इस पार,
तब तक चेतक था उस पार।
3.
हनुमान की पूंछ में, लगन न पाई आग।
लंका सिगरी जल गई गए, गए निशाचर भाग।
4.
वह शर इधर गांडीव गुड़ से
भिन्न जैसे ही हुआ।
धड़ से जयद्रथ का इधर सिर
छिन वैसे ही हुआ।

Related Posts

निश्चयवाचक (संकेतवाचक) सर्वनाम – nishchay vachak sarvanam

निश्चयवाचक (संकेतवाचक) सर्वनाम – जो सर्वनाम निकट या दूर की किसी वस्तु की ओर संकेत करे, उसे निश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे- यह लड़की है। वह पुस्तक है। ये हिरन…

Read more !

Ras – रस, Class 10 Hindi Grammar, Notes, Example, कक्षा 10 हिंदी Grammar – रस

Ras Definition – रस का अर्थ  रस का शाब्दिक अर्थ है ‘आनन्द’। काव्य को पढ़ने या सुनने से जिस आनन्द की अनुभूति होती है, उसे ‘रस’ कहा जाता है।रस का…

Read more !

Vatsalya Ras (वात्सल्य रस) – Hindi Grammar

Vatsalya Ras (वात्सल्य रस) इसका स्थायी भाव वात्सल्यता (अनुराग) होता है माता का पुत्र के प्रति प्रेम, बड़ों का बच्चों के प्रति प्रेम, गुरुओं का शिष्य के प्रति प्रेम, बड़े…

Read more !

Yamak alankar यमक अलंकार किसे कहते हैं, यमक अलंकार की परिभाषा और उदाहरण

यमक अलंकार यमक अलंकार की परिभाषा-Definition Of Yamak Alankar जब कविता में एक ही शब्द दो या दो से अधिक बार आए और उसका अर्थ हर बार भिन्न-भिन्न हो वहां…

Read more !

अनिश्चयवाचक सर्वनाम – Anishchay vachak sarvanam

अनिश्चयवाचक सर्वनाम – जिस सर्वनाम से किसी निश्चित व्यक्ति या पदार्थ का बोध नहीं होता, उसे अनिश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे- बाहर कोई है। मुझे कुछ नहीं मिला। इन वाक्यो…

Read more !