Bhakti Ras (भक्ति रस) – Hindi Grammar

Bhakti Ras (भक्ति रस)

इसका स्थायी भाव देव रति है इस रस में ईश्वर कि अनुरक्ति और अनुराग का वर्णन होता है अर्थात इस रस में ईश्वर के प्रति प्रेम का वर्णन किया जाता है।

उदाहरण:

Bhakti Ras ke Udaharan

1.
अँसुवन जल सिंची-सिंची प्रेम-बेलि बोई
मीरा की लगन लागी, होनी हो सो होई
2.
उलट नाम जपत जग जाना
वल्मीक भए ब्रह्म समाना
3.
एक भरोसो एक बल, एक आस विश्वास
एक राम घनश्याम हित, चातक तुलसीदास

Bhakti Ras

रस के प्रकार/भेद

क्रम रस का प्रकार स्थायी भाव
1 श्रृंगार रस रति
2 हास्य रस हास
3 करुण रस शोक
4 रौद्र रस क्रोध
5 वीर रस उत्साह
6 भयानक रस भय
7 वीभत्स रस जुगुप्सा
8 अद्भुत रस विस्मय
9 शांत रस निर्वेद
10 वात्सल्य रस वत्सलता
11 भक्ति रस अनुराग

Related Posts

Sandhi viched in hindi – परिभाषा, भेद, उदाहरण

संधि विच्छेद संधि की परिभाषा दो वर्णों के मेल से उत्पन्न विकार को व्याकरण में संधि कहते हैं अर्थात दो निर्दिष्ट अक्षरों के पास पास आने के कारण, उनके संयोग…

Read more !

व्यंजन के भेद – Vyanjan ke Bhed or Prakar

हिन्दी वर्णमाला में व्यंजन के तीन भेद होते हैं स्पर्श, अंतःस्थ और ऊष्म। व्यंजन के तीनों भेद का विवरण नीचे दिया गया है। व्यंजन निम्नलिखित तीन भेद हैं स्पर्श अंतःस्थ…

Read more !

Atishyokti Alankar – अतिशयोक्ति अलंकार, Hindi Grammar

अतिशयोक्ति अलंकार अतिशयोक्ति अलंकार की परिभाषा-Definition Of Atishyokti Alankar काव्य में जहां किसी योग्य व्यक्ति की योग्यता अर्थात सुंदरता, वीरता और उदारता को बढ़ा चढ़ाकर लोक सीमाओं का उल्लंघन करते…

Read more !

Bhayanak Ras (भयानक रस) – Hindi Grammar

Bhayanak Ras (भयानक रस) इसका स्थायी भाव भय होता है जब किसी भयानक या अनिष्टकारी व्यक्ति या वस्तु को देखने या उससे सम्बंधित वर्णन करने या किसी अनिष्टकारी घटना का…

Read more !

Rupak alankar – रूपक अलंकार, Hindi Grammar

रूपक अलंकार रूपक अलंकार की परिभाषा जहां रूप और गुण की अत्यधिक समानता के कारण उपमेय में उपमान का आरोप कर अभेद स्थापित किया जाए वहां रूपक अलंकार होता है।…

Read more !