भारत का महान्यायवादी-Attorney-General of India

भारत में महान्यायवादी का पद संविधान के भाग-5 में अनुच्छेद-76 के तहत सृजित किया गया है। महान्यायवादी भारत सरकार का प्रथम विधिक अधिकारी होता है। तथा भारत सरकार को विधिक सलाह देता है।

 

महान्यायवादी की नियुक्ति

महान्यायवादी की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा मंत्रिपरिषद की सलाह पर की जाती है। वह राष्ट्रपति के प्रसाद पर्यन्त अपना पद धारण करता है। अतः राष्ट्रपति जब चाहे उसे पदच्युत कर सकता है।

महान्यायवादी पद के लिए योग्यता

राष्ट्रपति ऐसे व्यक्ति को महान्यायवादी नियुक्त कर सकता है जो उच्चतम न्यायालय का न्यायाधीश बनने की योग्यता रखता है।

अधिकार एवं कर्तव्य

अनुच्छेद-76(2) के अनुसार महान्यायवादी का यह कर्तव्य होगा कि वह “राष्ट्रपति द्वारा निर्देशित विषयों पर भारत सरकार को विधिक सलाह दे।” महान्यायवादी को भारत के सभी न्यायालयों में सुनवाई करने का अधिकार होता है।

 

अनुच्छेद-88 के अनुसार महान्यायवादी संसद की कार्यवाहियों में भाग ले सकता है विचार व्यक्त कर सकता है। किन्तु मतदान नहीं कर सकता। महान्यायवादी को सहायता देने के लिए एक मुख्य सॉलिसिटर जनरल तथा दो अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल नियुक्त किये जाते हैं।

Related Posts

भारतीय नागरिकता-Indian citizenship

Question. भारतीय संविधान के किस भाग तथा किन अनुच्छेदों में नागरिकता का वर्णन किया गया है? Answer. भारतीय संविधान के भाग-2 में अनुच्छेद 5 से 11 तक नागरिकता का वर्णन…

Read more !

भारत परिषद अधिनियम-1861 – Indian Council Act-1861

भारतीय परिषद् अधिनियम -1861 प्रशासन में भारतीयों को शामिल करने के उद्देश्य से बनाया गया था। इस अधिनियम ने वायसराय की परिषद् की संरचना में बदलाव किया। यह प्रथम अवसर…

Read more !

मौलिक अधिकार-संविधान में मूल अधिकारों का वर्णन-Fundamental Rights

वे अधिकार जो व्यक्ति के जीवन के लिए मौलिक तथा अनिवार्य होने के कारण संविधान द्वारा नागरिकों को प्रदान किए जाते हैं और जिन अधिकारों में राज्य द्वारा भी हस्तक्षेप…

Read more !

राष्ट्रपति की शक्तियां और अधिकार

संविधान के अनुच्छेद-52 में उपबन्ध किया गया है कि “भारत का एक राष्ट्रपति होगा।” जो (अनुच्छेद-53 के अनुसार) संघीय कार्यपालिका का प्रधान होगा तथा संघ की सभी कार्यपालिकीय शक्तियां उसमें…

Read more !

भारत सरकार अधिनियम-1935-Government of India Act-1935

भारत सरकार अधिनियम-1935 ब्रिटिश संसद द्वारा अगस्त 1935 में भारत शासन हेतु पारित किया गया सर्वाधिक विस्तृत अधिनियम था। इसमें वर्मा सरकार अधिनियम-1935 भी शामिल था। भारत में संवैधानिक सुधारों…

Read more !