दास प्रथा का अन्त तथा शिशु वध प्रतिबन्ध

भारत में दास प्रथा का अन्त लार्ड एलनबरो के कार्यकाल में 1843 ई. में किया गया। भारत में दासता प्राचीन काल से ही विद्यमान थी। किन्तु यहाँ यूनान, रोमन व अमरीकन नीग्रो प्रकार की दासता कभी नहीं थी।

भारत में दासों की बन्धुआ मजदूरों से तुलना कर सकते हैं। भारत में दासों से मानवतापूर्ण व्यवहार होता था जिसका पाश्चात्य देशों में कोई उदाहरण नहीं मिलता।

 

भारत में दासता के विषय पर एक बार ‘चल समिति (committee of circuit)’ ने लिखा था कि “भारत में दासों को घर के बच्चों के समान माना जाता है और वे अपनी स्वतंत्रता के स्थान पर अपनी दासता में अधिक प्रसन्न जीवन व्यतीत कर सकते हैं।”

उत्तर भारत में ये प्रायः घरों में काम करते थे और दक्षिण भारत में प्रायः कृषि में सहायता देते थे। जबकि यूरोपीय लोग भारतीय दासों के साथ उसी निर्दयता से व्यवहार करते थे जैसा कि यूरोप में होता था।

कौटिल्य के अर्थशास्त्र में 9 प्रकार के दासों का उल्लेख मिलता है। सल्तनत काल में फिरोजशाह तुगलक ने दासों का विभाग ‘दीवान-ए-बन्दगान’ खोल रखा था।

दास प्रथा पर प्रतिबन्ध

मध्य काल में फिरोज तुगलक ने दासों के व्यापार पर रोक लगायी। इसके बाद मुगल सम्राट अकबर ने 1562 ई. में दास प्रथा को प्रतिबन्धित कर दिया।

1789 ई. में लार्ड कार्नवालिस ने दासों के व्यापार पर प्रतिबन्ध लगाया था।

सती प्रथा का अंत

1823 ई. में ड्यूक ऑफ ग्लोस्टर ने भारत में दास प्रथा को बन्द करने के लिए अंग्रेज अधिकारी लिस्टर स्टैनहोप से अनुरोध किया था।

1833 ई. के चार्टर अधिनियम में दासता को शीघ्रातिशीघ्र समाप्त करने को कहा गया। अतः चार्टर अधिनियम 1833 के आधार पर लार्ड एलनबरो ने 1843 ई. में एक्ट-5 पारित कर दासता को गैर कानूनी बना दिया और समस्त भारत में इसे अवैध घोषित कर दिया।

शिशु वध निषेध अधिनियम

भारत में शिशु वध प्रथा मुख्य रूप से बंगालियों तथा राजपूतों में प्रचलित थी। इस प्रथा के अंतर्गत बालिका शिशुओं को आर्थिक भार मानकर उनकी शैशव काल में ही हत्या कर दी जाती थी।

 महाराजा रणजीत सिंह के पुत्र दलीप सिंह ने उल्लेख किया है कि ” उसने स्वयं अपने नेत्रों के सामने देखा कि उसकी अपनी बहनों को बोरी में बन्द करके नदी में फेंक दिया गया।” प्रबुद्ध भारतीयों तथा अंग्रेजों ने इस घृणित प्रथा की बहुत आलोचना और निन्दा की।

 अतः सरकार ने गवर्नर जनरल जानशोर के समय 1795 ई. में बंगाल नियम-21 तहत नवजात कन्या हत्या तथा वेलेजली के समय 1804 ई. में नियम-3 के तहत शिशु हत्या को साधारण हत्या के बराबर मान लिया।

 भारतीय रियासतों से कहा गया कि वे इस प्रथा को बन्द करने का प्रयत्न करें। इन नियमों में विस्तार करते हुए लार्ड विलियम बैंटिक ने राजपूताना के शिशु वध पर प्रतिबन्ध लगाया।

लार्ड हार्डिंग ने सम्पूर्ण भारत में बालिका शिशु हत्या को निषेध कर दिया।

विधवा पुनर्विवाह अधिनियम

Question. जानशोर ने 1795 ई. में बंगाल नियम-21 के तहत किस हत्या को साधारण हत्या माना?

Answer. कन्या शिशु हत्या को

Question. सर्वप्रथम दास प्रथा को किसने प्रतिबन्धित किया?

Answer. अकबर ने

Question. नर बलि प्रथा की समाप्ति के लिए कैम्पबेल की नियुक्ति किसने की?

Answer. लार्ड हार्डिंग ने

Question. नर बलि प्रथा को कब समाप्त किया गया?

Answer. 1845 ई. में

Related Posts

क्लाइव के प्रशासनिक सुधार-Administrative Reforms of Clive

जब रॉबर्ट क्लाइव 1765 ई. में दूसरी बार बंगाल का गवर्नर बनकर आया तब उसने भारत की आन्तरिक परिस्थियों को सुधारने के लिए आवश्यक प्रयत्न किये। जिन्हें क्लाइव के प्रशासनिक…

Read more !

बंगाल में द्वैध शासन व्यवस्था-Dyarchy system in Bengal

बंगाल में द्वैध शासन व्यवस्था की स्थापना रावर्ट क्लाइव ने की थी। बंगाल में इस व्यवस्था का लागू होना इलाहाबाद की सन्धि (1765 ई.) का परिणाम था। इस सन्धि में…

Read more !

प्रथम द्वितीय तृतीय और चतुर्थ अंग्रेज मैसूर युद्ध-First Second Third and Fourth Anglo-Mysore War

1761 ई. में हैदरअली मैसूर राज्य का शासक बना। शासक बनने के बाद उसने अपनी शक्ति और राज्य का विस्तार किया। हैदरअली की बढ़ती शक्ति से मराठों, हैदराबाद के निजाम…

Read more !

1857 के विद्रोह की असफलता के कारण-Reasons for the failure of the Revolt of 1857

1857 के विद्रोह की असफलता के कारण कई थे। इस विद्रोह की असफलता के कुछ मुख्य कारण निम्नलिखित हैं। 1-संगठन का अभाव विद्रोह की असफलता का सबसे बड़ा और मुख्य…

Read more !

अंग्रेज-सिक्ख युद्ध-Anglo-Sikh War

27 जून 1839 ई. में पक्षाघात के कारण महाराजा रणजीत सिंह की मृत्यु हो गई। उसके बाद उनका पुत्र खड़ग सिंह गद्दी पर बैठा। वह एक अयोग्य शासक था। अतः…

Read more !