दीर्घ संधि : परिभाषा एवं उदाहरण

दीर्घ संधि की परिभाषा

  • जब दो शब्दों की संधि करते समय (अ, आ) के साथ (अ, आ) हो तो ‘आ‘ बनता है, जब (इ, ई) के साथ (इ, ई) हो तो ‘ई‘ बनता है, जब (उ, ऊ) के साथ (उ, ऊ) हो तो ‘ऊ‘ बनता है।
  • इस संधि को हम ह्रस्व संधि भी कह सकते हैं।
  • जैसे: पुस्तक + आलय : पुस्तकालय बनता है। यहाँ अ+आ मिलकर बनाते हैं।

दीर्घ संधि के कुछ उदाहरण :

  • विद्या + अभ्यास : विद्याभ्यास (आ + अ = आ)

जैसा कि आप ऊपर दिये गए दीर्घ संधि के उदाहरण में देख सकते हैं, दोनों स्वर मिलकर संधि करने पर परिवर्तन ला रहे हैं। एवंमिलकर बना रहे हैं एवं संधि होने के बाद शब्द में परिवर्तन देखने को मिल रहा है। ये स्वर हैं अतः यह उदाहरण दीर्घ संधि के अंतर्गत आयेगा।

  • विद्या + अभ्यास : विद्याभ्यास (आ + अ = आ)

ऊपर दिए गए उदाहरण में आप देख सकते हैं कि जब एवं दो स्वरों को मिलाया गया तो उन्होंने का निर्माण किया। जब संधि हुई तो मुख्य शब्द में संधि होने के बाद परिवर्तन की वजह से देखने को मिला। अतः यह दीर्घ संधि के अंतर्गत आएगा।

  • परम + अर्थ : परमार्थ (अ + अ = आ)

जैसा कि आप ऊपर दिए गए उदाहरण में देख सकते हैं कि यहाँ पर संधि करते समय जब एवं दो स्वरों को मिलाया गया तो उन शब्दों ने मिलकर बना दिया। जब संधि की गयी तो मुख्य शब्द में परिवर्तन स्वरों कि वजह से आया। अतः यह दीर्ग संधि के अंतर्गत आएगा।

  • कवि + ईश्वर : कवीश्वर (इ + ई = ई)

ऊपर दिए गए उदाहरण में जैसा कि आप देख सकते हैं और ये दो स्वरों को मिलाया गया। जब संधि होते समय ये दो स्वर मिले तो इन्होने बना दिया। जब शब्दों कि संधि की गयी तो मुख्य शब्द में परिवर्तन इन स्वरों कि वजह से देखने को मिला। अतः यह उदाहरण दीर्घ संधि के अंतर्गत आएगा।

  • गिरि + ईश : गिरीश (इ + ई = ई)

जैसा कि आप ऊपर दिए गए उदाहरण में देख सकते हैं, जब एवं इन दोनों स्वरों को मिलाया गया तो इन स्वरों ने मिलकर दीर्घ बनायी। जब शब्दों की संधि कि गयो तो इन स्वरों की वजह से परिवर्तन देखने को मिला। अतः यह उदाहरण दीर्घ संधि के अंतर्गत आएगा।

  • वधु + उत्सव : वधूत्सव (उ + उ = ऊ)

ऊपर दिए गए उदाहरण में जैसा कि आप देख सकते एवं ये दोनों स्वर संधि के समय मिले। जब इनकी संधि हुई तो बनने वाले शब्द में इन स्वरों कि वजह से परिवर्तन देखने को मिला। अतः यह उदाहरण दीर्घ संधि के अंतर्गत आएगा।

  • योजन + अवधि : योजनावधि (अ + अ = आ)

जैसा कि आप ऊपर दिए गए उदाहरण में देख सकते हैं की एवंइन दोनों स्वरों को मिलाया गया। जब शब्दों की संधि की गयी तो संधि से बनने वाले शब्द में स्वरों के मेल से परिवर्तन देखने को मिला। अतः यह उदाहरण दीर्घ संधि के अंतर्गत आएगा।

दीर्घ संधि के कुछ अन्य उदाहरण :

  • स्व + आधीन : स्वाधीन (अ + आ = आ)
  • सर्व + अधिक : सर्वाधिक (अ + अ = आ)
  • अंड + आकार : अंडाकार (अ + आ = आ)
  • अल्प + आयु : अल्पायु (अ + आ = आ)
  • आत्मा + अवलंबन : आत्मावलंबन (आ + अ = आ)
Deergh Sandhi

देखे हिन्दी की अन्य संधि

  1. स्वर संधि
  2. दीर्घ संधि
  3. गुण संधि
  4. वृद्धि संधि
  5. यण संधि
  6. अयादि संधि
  7. व्यंजन संधि
  8. विसर्ग संधि

Related Posts

हिंदी के कवि एवं उनकी रचनाएं (Hindi Ke Kavi Aur Rachnaye)

हिंदी के प्रसिद्ध कवि एवं उनकी रचनाएं निचे दिए गए लेख को आप सभी Students एक बार अच्छे से जरुर पढ़ ले, यहाँ तैयारी करने से आप सभी परीक्षा में…

Read more !

Yamak alankar यमक अलंकार किसे कहते हैं, यमक अलंकार की परिभाषा और उदाहरण

यमक अलंकार यमक अलंकार की परिभाषा-Definition Of Yamak Alankar जब कविता में एक ही शब्द दो या दो से अधिक बार आए और उसका अर्थ हर बार भिन्न-भिन्न हो वहां…

Read more !

Utpreksha alankar – उत्प्रेक्षा अलंकार किसे कहते हैं उदाहरण सहित वर्णन

उत्प्रेक्षा अलंकार उत्प्रेक्षा अलंकार की परिभाषा-Definition Of Utpreksha Alankar जहां पर उपमेय में उपमान की संभावना अथवा कल्पना कर ली गई हो, वहां उत्प्रेक्षा अलंकार होता है। इसके बोधक शब्द…

Read more !

Vyanjan Sandhi in hindi – व्यंजन संधि परिभाषा, उदाहरण, भेद

Vyanjan sandhi in hindi व्यंजन संधि की परिभाषा-Definition of Vyanjan Sandhi व्यंजन के बाद यदि किसी स्वर या व्यंजन के आने से उस व्यंजन में जो विकार / परिवर्तन उत्पन्न…

Read more !

Veer Ras (वीर रस) – Hindi Grammar

Veer Ras (वीर रस) इसका स्थायी भाव उत्साह होता है इस रस के अंतर्गत जब युद्ध अथवा कठिन कार्य को करने के लिए मन में जो उत्साह की भावना विकसित…

Read more !