दीर्घ स्वर – Deergh Swar

दीर्घ स्वर

जिन स्वरों के उच्चारण में ह्रस्व स्वरों से दुगुना समय लगता है उन्हें दीर्घ स्वर कहते हैं।

दीर्घ स्वर की संख्या

दीर्घ स्वर हिन्दी में सात हैं- आ, ई, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ

Dirgh Swar

विशेष– दीर्घ स्वरों को ह्रस्व स्वरों का दीर्घ रूप नहीं समझना चाहिए। यहाँ दीर्घ शब्द का प्रयोग उच्चारण में लगने वाले समय को आधार मानकर किया गया है।

Related Posts

प्लुत स्वर – Plut Swar

प्लुत स्वर जिन स्वरों के उच्चारण में दीर्घ स्वरों से भी अधिक समय लगता है उन्हें प्लुत स्वर कहते हैं। प्रायः इनका प्रयोग दूर से बुलाने में किया जाता है।…

Read more !

अर्थ के आधार पर वाक्य के भेद – Arth ke aadhar par vakya ke bhed

अर्थ के आधार पर वाक्य के भेद अर्थ के आधार पर 8 प्रकार के वाक्य होते हैं – विधान वाचक वाक्य निषेधवाचक वाक्य प्रश्नवाचक वाक्य विस्म्यादिवाचक वाक्य आज्ञावाचक वाक्य इच्छावाचक…

Read more !

Anyokti alankar – अन्योक्ति अलंकार, Hindi Grammar

अन्योक्ति अलंकार अन्योक्ति अलंकार की परिभाषा- जहां अप्रस्तुत के द्वारा प्रस्तुत का व्यंग्यात्मक कथन किया जाए, वहां अन्योक्ति अलंकार होता है। अन्योक्ति अलंकार के उदाहरण- 1. नहिं पराग नहिं मधुर…

Read more !

Sarvanam ki paribhasha (सर्वनाम की परिभाषा)

“वह शब्द जो संज्ञा के बदले में आए उसे सर्वनाम कहते हैं।” अर्थात जिन शब्दों का प्रयोग संज्ञा के स्थान पर किया जाता है, उन्हें सर्वनाम कहते है। सर्वनाम Sarvanam…

Read more !

यण संधि : परिभाषा एवं उदाहरण, Yan sandhi

यण संधि की परिभाषा जब संधि करते समय इ, ई के साथ कोई अन्य स्वर हो तो ‘ य ‘ बन जाता है, जब उ, ऊ के साथ कोई अन्य…

Read more !