Hasya Ras (हास्य रस) – Hindi Grammar

Hasya Ras (हास्य रस)

इसका स्थाई भाव हास होता है इसके अंतर्गत वेशभूषा, वाणी आदि कि विकृति को देखकर मन में जो विनोद का भाव उत्पन्न होता है उससे हास की उत्पत्ति होती है इसे ही हास्य रस कहते हैं.

Hasya Ras in Hindi with example

उदाहरण:

Hasya Ras ke Udaharan

1.
विन्ध्य के वासी उदासी तपो व्रत धारी महा बिनु नारि दुखारे
गौतम तीय तरी तुलसी सो कथा सुनि भे मुनि वृन्द सुखारे
2.
सीरा पर गंगा हसै, भुजानि में भुजंगा हसै
हास ही को दंगा भयो, नंगा के विवाह में
3.
ह्रै सिला सब चन्द्रमुखी परसे पद मंजुल कंज तिहारे
कीन्ही भली रघुनायक जू! करुना करि कानन को पगु धारे

रस के प्रकार/भेद

क्रम रस का प्रकार स्थायी भाव
1 श्रृंगार रस रति
2 हास्य रस हास
3 करुण रस शोक
4 रौद्र रस क्रोध
5 वीर रस उत्साह
6 भयानक रस भय
7 वीभत्स रस जुगुप्सा
8 अद्भुत रस विस्मय
9 शांत रस निर्वेद
10 वात्सल्य रस वत्सलता
11 भक्ति रस अनुराग

Related Posts

निश्चयवाचक (संकेतवाचक) सर्वनाम – nishchay vachak sarvanam

निश्चयवाचक (संकेतवाचक) सर्वनाम – जो सर्वनाम निकट या दूर की किसी वस्तु की ओर संकेत करे, उसे निश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे- यह लड़की है। वह पुस्तक है। ये हिरन…

Read more !

यण संधि : परिभाषा एवं उदाहरण, Yan sandhi

यण संधि की परिभाषा जब संधि करते समय इ, ई के साथ कोई अन्य स्वर हो तो ‘ य ‘ बन जाता है, जब उ, ऊ के साथ कोई अन्य…

Read more !

Utpreksha alankar – उत्प्रेक्षा अलंकार किसे कहते हैं उदाहरण सहित वर्णन

उत्प्रेक्षा अलंकार उत्प्रेक्षा अलंकार की परिभाषा-Definition Of Utpreksha Alankar जहां पर उपमेय में उपमान की संभावना अथवा कल्पना कर ली गई हो, वहां उत्प्रेक्षा अलंकार होता है। इसके बोधक शब्द…

Read more !

Vyanjan Sandhi in hindi – व्यंजन संधि परिभाषा, उदाहरण, भेद

Vyanjan sandhi in hindi व्यंजन संधि की परिभाषा-Definition of Vyanjan Sandhi व्यंजन के बाद यदि किसी स्वर या व्यंजन के आने से उस व्यंजन में जो विकार / परिवर्तन उत्पन्न…

Read more !

व्यंजन के भेद – Vyanjan ke Bhed or Prakar

हिन्दी वर्णमाला में व्यंजन के तीन भेद होते हैं स्पर्श, अंतःस्थ और ऊष्म। व्यंजन के तीनों भेद का विवरण नीचे दिया गया है। व्यंजन निम्नलिखित तीन भेद हैं स्पर्श अंतःस्थ…

Read more !