Hindi Ki Matra – हिंदी मात्राएँ

मात्राएँ- Hindi Ki Matraye

स्वरों के बदले हुए स्वरूप को मात्रा कहते हैं स्वरों की मात्राएँ निम्नलिखित हैं:

  • स्वर मात्राएँ शब्द
  • अ × कम 
  • आ ा काम 
  • इ ि किसलये 
  • ई ी खीर 
  • उ ु गुलाब 
  • ऊ ू भूल 
  • ऋ ृ तृण 
  • ए े केश 
  • ऐ ै है 
  • ओ ो चोर 
  • औ ौ चौखट 

Note : अ वर्ण (स्वर) की कोई मात्रा नहीं होती।

Matraye: Hindi Ki Matraye

Related Posts

Vyanjan Sandhi in hindi – व्यंजन संधि परिभाषा, उदाहरण, भेद

Vyanjan sandhi in hindi व्यंजन संधि की परिभाषा-Definition of Vyanjan Sandhi व्यंजन के बाद यदि किसी स्वर या व्यंजन के आने से उस व्यंजन में जो विकार / परिवर्तन उत्पन्न…

Read more !

Vatsalya Ras (वात्सल्य रस) – Hindi Grammar

Vatsalya Ras (वात्सल्य रस) इसका स्थायी भाव वात्सल्यता (अनुराग) होता है माता का पुत्र के प्रति प्रेम, बड़ों का बच्चों के प्रति प्रेम, गुरुओं का शिष्य के प्रति प्रेम, बड़े…

Read more !

गुण संधि : परिभाषा एवं उदाहरण

गुण संधि की परिभाषा जब संधि करते समय (अ, आ) के साथ (इ, ई) हो तो ‘ए‘ बनता है, जब (अ, आ) के साथ (उ, ऊ) हो तो ‘ओ‘ बनता…

Read more !

Swar Sandhi in hindi – स्वर संधि किसे कहते हैं,उदाहरण

Definition Of Swar Sandhi स्वर संधि की परिभाषा दो स्वरों के मेल से जो विकार उत्पन्न होता है उसे स्वर संधि कहते हैं स्वर संधि मुख्यतः पांच प्रकार के होते…

Read more !

वाक्य के भेद – Vakyo ke bhed in hindi with example

कर्ता और क्रिया के आधार पर वाक्य के भेद कर्ता और क्रिया के आधार पर वाक्य के दो भेद होते हैं- उद्देश्य  विधेय जिसके बारे में बात की जाय उसे उद्देश्य कहते हैं…

Read more !