सबसे अधिक उपजाऊ जलोढ़ मृदा-Alluvial soil

भारत की सबसे अधिक उपजाऊ मिट्टी जलोढ़ मृदा है। यह मिट्टी भारत के लगभग 40% भाग पर पायी जाती है। यह मृदा पंजाब से असम तक के विशाल मैदानी भागों, नर्वदा, ताप्ती, महानदी, गोदावरी, कृष्णा एवं कावेरी आदि नदियों की घाटियों तथा केरल के तटवर्ती भागों में लगभग 15 लाख वर्ग किमी. क्षेत्र पर विस्तृत है।

 

जलोढ़ मिट्टी का निर्माण हिमालय से निकलने वाली नदियों एवं प्रायद्वीपीय भारत से निकलने वाली नदियों द्वारा लाये गये मलवे के निक्षेपण से हुआ है। इसमें रेत, गाद, मृत्तिका के कण भिन्न भिन्न अनुपात में होते हैं।

जलोढ़ मृदा में किन तत्वों की अधिकता होती है?

जलोढ़ मिट्टी का रंग हल्के धूसर से भस्मी धूसर के बीच होता है। इसमें पोटाश, फॉस्फोरिक एसिड, चुना तथा जैव पदार्थों की अधिकता पायी जाती है। किन्तु नाइट्रोजन व ह्यूमस कमी होती हैं। फलीदार फसलों की खेती से इसमें तेजी से नाइट्रोजन का स्थिरीकरण होता है।

ये मिट्टियाँ सिंचाई हेतु सर्वाधिक उपयुक्त होती हैं। इनकी जल धारण क्षमता सबसे कम होती है क्योंकि इसमें बड़े आकार के रवे की मात्रा अधिक होती है।

मृदा अपरदन के प्रभाव

सामन्यतः दोमट मिट्टी में 40% बालू के कण, 40% मृत्तिका के कण एवं 20% गाद के कण पाये जाते हैं।

जलोढ़ मिट्टियाँ धान, गेहूँ, गन्ना, जूट, कपास, मक्का, तिलहन, दलहन, फल एवं शाक-सब्जियों के लिए उपयुक्त होती हैं।

नवीन जलोढ़ मृदा

इसे खादर कहा जाता है। इन मिट्टियों का विस्तार नदी के बाढ़ के मैदानी क्षेत्र में पाया जाता है जहाँ प्रतिवर्ष बाढ़ के दौरान मिट्टी की नवीन परत का जमाव होता रहता है। इस मिट्टी की जल धारण क्षमता बांगर से अधिक होती है। यह मिट्टी सदैव उर्वर बनी रहती है।

प्राचीन जलोढ़ मृदा

इसे बांगर कहा जाता है। इन मिट्टियों का विस्तार बाढ़ की पहुँच से दूर कुछ ऊंचाई पर होता है। इसमें चुनेदार कंकड़ के पिंड अधिक मात्रा में पाये जाते हैं।बांगर मिट्टियों पर लवणीय और क्षारीय रेह का जमाव मिलता है। यह मिट्टी खादर की अपेक्षा कम उर्वर होती है। अतः इसमें नियमित रूप उर्वरकों की आवश्यकता होती है।

कपास के लिए सर्वाधिक उपयुक्त मिट्टी

Question. भारत में सबसे बड़ा मिट्टी का वर्ग कौन-सा है?

Answer. कछारी मिट्टी (जलोढ़ मृदा) भारत सर्वाधिक क्षेत्र में पायी जाती है। यह मिट्टी देश के लगभग 40% भाग पर विस्तृत है।

Question. मैदानी भागों में पायी जाने वाली पुरानी जलोढ़ मृदा को क्या कहा जाता है?

Answer. गंगा के मैदान की पुरानी कछारी मिट्टी को बांगर कहा जाता है।

type=”application/ld+json”>
{
“@context”: “https://schema.org”,
“@type”: “FAQPage”,
“mainEntity”: [{
“@type”: “Question”,
“name”: “भारत की सबसे अधिक उपजाऊ मृदा कौन-सी है?”,
“acceptedAnswer”: {
“@type”: “Answer”,
“text”: “जलोढ़ मृदा भारत की सबसे अधिक उपजाऊ मृदा है। इस दोमट मिट्टी भी कहा जाता है।”
}
},{
“@type”: “Question”,
“name”: “जलोढ़ मृदा में किन तत्वों की अधिकता होती है?”,
“acceptedAnswer”: {
“@type”: “Answer”,
“text”: “जलोढ़ मिट्टी में पोटाश, फॉस्फोरिक एसिड, चुना तथा जैव पदार्थों की अधिकता पायी जाती है। किन्तु नाइट्रोजन व ह्यूमस कमी होती हैं।”
}
}]
}

Related Posts

पर्यावरण संरक्षण के उपाय-environmental protection measures

पर्यावरण व्यापक शब्द है जिसका सामान्य अर्थ प्रकृति द्वारा प्रदान किया गया समस्त भौतिक और सामाजिक वातावरण आता है। इसके अंतर्गत जल, वायु, पेड़, पौधे, पर्वत, प्राकृतिक संपदा आदि सभी…

Read more !

पृथ्वी की उत्पत्ति एवं संरचना-Origin and composition of the earth

पृथ्वी की उत्पत्ति एवं आयु के सम्बन्ध में समय-समय पर विभिन्न विद्वानों ने अपने विचार प्रस्तुत किये। सर्वप्रथम फ्रांसीसी वैज्ञानिक कास्ते-द-बफन ने 1749 ई. में पृथ्वी की उत्पत्ति के विषय…

Read more !

सामाजिक वानिकी कार्यक्रम-social forestry program

सामाजिक वानिकी कार्यक्रम पेड़ लगाने को प्रात्साहित करने वाला कार्यक्रम है। इसे 1976 ई. में शुरू किया गया। वनारोपण को जन आन्दोलन बनाना इस नीति का मुख्य लक्ष्य है। इसमें…

Read more !

रेगुर मिट्टी क्या है?-What is regur soil?

काली मिट्टी को रेगुर अथवा कपासी मिट्टी आदि अन्य नामों से भी जाना जाता है। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर इसे उष्ण कटिबंधीय चरनोजम नाम से जाना जाता है। भारत में इस…

Read more !

तारों का जीवन चक्र-life cycle of stars

किसी तारे का जीवन आकाशगंगा की तीसरी भुजा में हाइड्रोजन एवं हीलियम के बादलों के बनने से  शुरू होता हैं। इन मेघों को stellar nebula कहते हैं। आदि तारा (PROTOSTAR)…

Read more !