मत्स्यासन – मत्स्यासन योग क्रिया की विधि, लाभ और फायदे, Matsyasana in Hindi

Matsyasana

मत्स्यासन (Matsyasana)

मत्स्य का अर्थ होता है मछली, इस आसन के दौरान शरीर का आकार मछली जैसा बनता है, इसलिए इस आसान को मत्स्यासन नाम दिया गया है। अंग्रेजी में इसे फिश पोज़ के नाम से भी जाना जाता है। जिन लोगो को कमर दर्द और गले से सम्बंधित समस्याए है, उन्हें यह आसान जरूर करना चाहिए।

मत्स्यासन करने की विधि

  1. मत्स्यासन का अभ्यास करने के लिए सर्वप्रथम पद्मासन में बैठ जाए।
  2. अब पीछे की और झुखे और लेट जाये।
  3. फिर अपने दोनों हाथो को एक दूसरे से बांधकर सिर के पीछे रखे और पीठ के हिस्से को ऊपर उठाकर गर्दन मोड़ते हुए सिर के उपरी हिस्से को जमीन पर टिकाए।
  4. अब अपने दोनों पैर के अंगूठे को हाथों से पकडे और ध्यान रहे की कोंहनिया जमीन से सटी हुई हो।
  5. एक से पांच मिनिट तक अभ्यास करे।
  6. इस स्थिति में कम से कम 5 सेकंड तक रुके और फिर पूर्व अवस्था में वापिस आ जाये।
  7. यह आसन करते समय श्वसन की गति नियमित रखे, और 5 मिनट तक इस योग क्रिया का अभ्यास कर सकते है।

शुरुआती तौर पर कभी कभी इस मुद्रा को करने पर गर्दन में तनाव महसूस होता है। शुरुवात में इसे करने पर हो भी सकता है की आप अपनी गर्दन या गले में असुविधा महसूस करे- इसलिए आपको यदि इसे करने पर परेशानी महसूस हो रही हो तो इस Fish Yoga Pose को करते वक्त सिर के पीछे की और कम्बल रखे।

मत्स्यासन योग से मिलने वाले लाभ

  1. यह योग दमे के रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद है।
  2. यह शुद्ध रक्त का निर्माण तथा संचार करता है।
  3. मधुमेह के रोगियों के लिए यह आसान बहुत फायदेमंद है।
  4. इसके अभ्यास से स्त्रियों के मासिक धर्म संबंधी रोग दूर होते हैं।
  5. मत्स्यासन योग के नियमित अभ्यास से छाती और पेट के रोग दूर होते हैं।
  6. इस योग के अभ्यास से खाँसी दूर होती है और पाचन तंत्र सुधरता है।
  7. मत्स्यासन चेहरे और त्वचा को आकर्षक तथा शरीर को कांतिमान बना देता है।
  8. यह कब्ज दूर कर भूख बढ़ाता है तथा भोजन पचाता है और पेट की गैस दूर करता है।
  9. जो लोग अपने बड़े हुए पेट को कम करना चाहते है, उन्हें यह योग क्रिया को जरूर करना चाहिए।

जो लोग इस आसान का अभ्यास करते है उनमे रक्ताभिसरण की गति बढ़ती है, जिससे चर्म रोग नहीं होता है।

योग क्‍या है, योग कैसे किया जाता है, योग कैसे काम करता है, विभिन्‍न बीमारियों को दूर करने के लिए योग कैसे करें, योग के क्‍या फायदे हैं, मोटापा दूर करने के लिए योग और योग के अन्‍य फायदों के बारे में अधिक जानकारी के लिए पूरा लेख पढ़ें- योग के प्रमुख आसन और उनके लाभ, Yoga Asanas in Hindi

Related Posts

ऊर्ध्व सर्वांगासन – करने का तरीका और फायदे, Urdhva Sarvangasana in Hindi

ऊर्ध्व सर्वांगासन (Urdhva Sarvangasana) सर्व-अंग एवं आसन अर्थात सर्वांगासम। इस आसन को करने से सभी अंगों को व्यायाम मिलता है इसीलिए इसे सर्वांगासन कहते हैं। सर्वांगासम में सावधानी कोहनियाँ भूमि…

Read more !

कर्नापीड़ासन – कर्नापीड़ासन करने का तरीका और फायदे, Karnapidasana in Hindi

कर्नापीड़ासन (Karnapidasana) कर्णपीड़ासन को इयर प्रेशर पोज़ और नी टु इयर पोज़ भी कहा जाता है। कर्णपीड़ासन को कान के दबाव की मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है।…

Read more !

अधोमुखश्वानासन योग (Adho Mukha Svanasana) in Hindi

अधो-सामने, मुख-चेहरा, स्वान(श्वान)-कुत्ता। अधोमुख स्वान आसन एक कुत्ते (श्वान, स्वान) की तरह सामने की ओर झुकने का प्रतिकात्मक है इसलिए इसे अधोमुख स्वान आसन कहते हैं। अधोमुख श्वानासन संस्कृत का…

Read more !

जानुशीर्षासन – जानुशीर्षासन करने का तरीका और फायदे, Janu Shirshasana

जानुशीर्षासन (Janu Shirshasana) जानुशीर्षासन योग एक संस्कृत का शब्द हैं, यह दो शब्दों से मिलकर बना हैं जिसमे पहला शब्द ‘जानु’ हैं जिसका अर्थ ‘घुटना’ हैं और दूसरा शब्द ‘शीर्ष’…

Read more !

शलभासन – शलभासन की प्रक्रिया और लाभ, Salabhasana in Hindi

शलभासन (Salabhasana) शलभ का अर्थ टिड्डी (Locust ) होता है। इस आसन की अंतिम मुद्रा में शरीर टिड्डी (Locust ) जैसा लगता है, इसलिए इसे इस नाम से जाना जाता…

Read more !