निश्चयवाचक (संकेतवाचक) सर्वनाम – nishchay vachak sarvanam

निश्चयवाचक (संकेतवाचक) सर्वनाम –

जो सर्वनाम निकट या दूर की किसी वस्तु की ओर संकेत करे, उसे निश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे- यह लड़की है। वह पुस्तक है। ये हिरन हैं। वे बाहर गए हैं। 

इन वाक्यो को देखिये

  • यह मेरी पुस्तक है।
  • वह माधव की गाय है।
  • वह राम के भाई हैं।

यह‘ , ‘वह‘ , ‘वह‘ सर्वनाम शब्द किसी विशेष व्यक्ति आदि को निश्चित संकेत करते हैं। अतः यह संकेतवाचक भी कहलाते हैं।

इस की परिभाषा

“जो सर्वनाम किसी व्यक्ति , वस्तु आदि को निश्चयपूर्वक संकेत करें वह निश्चयवाचक कहलाता है।”

निश्चयवाचक और पुरुषवाचक सर्वनाम में अंतर व समानता –

राम मेरा मित्र है , वह दिल्ली में रहता है — पुरुषवाचक (अन्य पुरुषवाचक )
यह मेरी गाड़ी है , वह राम की गाड़ी है। — निश्चयवाचक


सर्वनाम के 6 भेद हैं-

  1. पुरुषवाचक
  2. निश्चयवाचक
  3. अनिश्चयवाचक
  4. संबंधवाचक
  5. प्रश्नवाचक
  6. निजवाचक
Hindi Vyakaran (हिंदी व्याकरण), Hindi Grammar Lessons in detail. Learn Hindi Vyakaran. Prepare all Hindi Grammar topics for your next exam.

nishchay vachak sarvanam

Related Posts

Rupak alankar – रूपक अलंकार, Hindi Grammar

रूपक अलंकार रूपक अलंकार की परिभाषा जहां रूप और गुण की अत्यधिक समानता के कारण उपमेय में उपमान का आरोप कर अभेद स्थापित किया जाए वहां रूपक अलंकार होता है।…

Read more !

Vatsalya Ras (वात्सल्य रस) – Hindi Grammar

Vatsalya Ras (वात्सल्य रस) इसका स्थायी भाव वात्सल्यता (अनुराग) होता है माता का पुत्र के प्रति प्रेम, बड़ों का बच्चों के प्रति प्रेम, गुरुओं का शिष्य के प्रति प्रेम, बड़े…

Read more !

Shringar Ras – श्रृंगार रस की परिभाषा और उदाहरण – संयोग श्रृंगार

Shringar Ras (श्रंगार रस) इसका स्थाई भाव रति होता है नायक और नायिका के मन में संस्कार रूप में स्थित रति या प्रेम जब रस कि अवस्था में पहुँच जाता…

Read more !

अनिश्चयवाचक सर्वनाम – Anishchay vachak sarvanam

अनिश्चयवाचक सर्वनाम – जिस सर्वनाम से किसी निश्चित व्यक्ति या पदार्थ का बोध नहीं होता, उसे अनिश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे- बाहर कोई है। मुझे कुछ नहीं मिला। इन वाक्यो…

Read more !

Anyokti alankar – अन्योक्ति अलंकार, Hindi Grammar

अन्योक्ति अलंकार अन्योक्ति अलंकार की परिभाषा- जहां अप्रस्तुत के द्वारा प्रस्तुत का व्यंग्यात्मक कथन किया जाए, वहां अन्योक्ति अलंकार होता है। अन्योक्ति अलंकार के उदाहरण- 1. नहिं पराग नहिं मधुर…

Read more !