प्रार्थना समाज की स्थापना कब हुई

प्रार्थना समाज की स्थापना 1867 ई. में बम्बई महाराष्ट्र में हुई। इसके संस्थापक “आत्माराम पाण्डुरंग” थे। महादेव गोविन्द रानाडे, एन. जी. चंदावरकर तथा आर. जी. भण्डारकर आदि इनके प्रमुख सहयोगी थे। इनके सहयोग के कारण प्रार्थना समाज को काफी ख्याति मिली। इस समाज की स्थापना की प्रेरणा महाराष्ट्र यात्रा के दौरान केशवचन्द्र सेन ने दी थी।

 

1871 ई. में रानाडे ने एक सार्वजनिक समाज की स्थापना की। रानाडे को “महाराष्ट्र का सुकरात” कहा जाता है। इन्हें पश्चिम भारत में सांस्कृतिक पुनर्जागरण का अग्रदूत माना जाता है। रानाडे, गोपाल कृष्ण गोखले के राजनैतिक गुरु थे। इन्होंने अपने आस्तिकता सम्बन्धी विचार अपनी पुस्तक “एक आस्तिक की धर्म में आस्था” में व्यक्त किये।

प्रार्थना समाज के उद्देश्य

इस समाज की चार प्रमुख मांगें या उद्देश्य थे।

1-जाति प्रथा का अंत किया जाये।

2-पुरुषों तथा स्त्रियों की विवाह की आयु में वृद्धि की जाये।

3-विधवा पुनर्विवाह को प्रोत्साहन दिया जाये।

4-स्त्री शिक्षा को प्रोत्साहित किया जाये।

इस समाज ने दलितों, अछूतों, पिछड़ों तथा पीड़ितों की दशा एवं दिशा में सुधार हेतु “दलित जाति मण्डल, समाज सेवा संघ तथा दक्कन शिक्षा सभा” का गठन किया। दक्कन शिक्षा सभा को ही बाद में “पूना फर्ग्युसन कॉलेज” कहा गया।

भारतीय नव जागरण के अग्रदूत

रानाडे ने विधवा पुनर्विवाह को प्रोत्साहित करने के लिए 1891 ई. में “विडो रीमैरेज एसोसिएशन” का गठन किया किया। इनके प्रमुख सहयोगी “धौंदो केशव कर्वे” ने 1899 ई. में पूना में एक “विधवा आश्रम संघ” की स्थापना की। जहाँ विधवाओं को आत्मनिर्भर बनाकर जीवन को नई दृष्टि से देखने के लिए उत्साहित किया जाता था।

कर्वे ने विधवा विवाह तथा स्त्री शिक्षा पर विशेष जोर दिया। उन्होंने 1893 ई. में एक विधवा से विवाह किया तथा 1916 ई. में बम्बई में प्रथम “भारतीय महिला विश्वविद्यालय” की स्थापना की।

पंजाब में प्रार्थना समाज के प्रचार प्रसार का श्रेय दयाल सिंह प्रन्यास को जाता है। इन्होंने इस विचारधारा को फैलाने के लिए 1910 ई. में दयाल सिंह कॉलेज की स्थापना की।

दक्षिण भारत में प्रार्थना समाज के प्रचार प्रसार का सबसे बड़ा श्रेय तेलगू भाषा के विद्वान “वीरेसलिंगम पुण्टुलू” को जाता है।

वेद समाज की स्थापना

वेद समाज की स्थापना केशवचन्द्र सेन के प्रयासों से 1864 ई. में मद्रास में के. श्री धरालु नायडू ने की थी। वी राजगोपाल चारलू, पी सुब्रयल चेट्टी और विश्वनाथ मुदलियार आदि इसके प्रमुख सदस्य थे। 1871 ई. वेद समाज का नाम बदलकर “दक्षिण भारत का ब्रह्म समाज” रख दिया गया।

Question. दक्कन एजुकेशन सोसाइटी को बाद में किस नाम से जाना गया?

Answer. पूना फर्ग्युसन कॉलेज

Question. 1916 ई. में बम्बई में प्रथम भारतीय महिला विश्वविद्यालय की स्थापना किसने की थी?

Answer. डी के कर्वे ने

Question. महाराष्ट्र का सुकरात किसे कहा जाता है?

Answer. एम जी रानाडे को

Question. गुजरात में मानव धर्म सभा तथा यूनिवर्सल रिलिजियन्स सोसायटी का गठन किसने किया था?

Answer. मेहता जी दुर्गाराम मंसाराम ने

Question. वेद समाज की स्थापना किसने की थी?

Answer. के. श्री धरालु नायडू ने

Related Posts

1857 की क्रांति के परिणाम-Consequences of the Revolution of 1857

1857 की क्रांति के परिणाम तात्कालिक और दूरगामी दृष्टि से महत्वपूर्ण रहे। यद्यपि विद्रोह का पूर्ण रूप से दमन कर दिया गया। फिर भी इसने भारत में अंग्रेजी साम्राज्य के…

Read more !

प्रथम द्वितीय तृतीय और चतुर्थ अंग्रेज मैसूर युद्ध-First Second Third and Fourth Anglo-Mysore War

1761 ई. में हैदरअली मैसूर राज्य का शासक बना। शासक बनने के बाद उसने अपनी शक्ति और राज्य का विस्तार किया। हैदरअली की बढ़ती शक्ति से मराठों, हैदराबाद के निजाम…

Read more !

क्लाइव के प्रशासनिक सुधार-Administrative Reforms of Clive

जब रॉबर्ट क्लाइव 1765 ई. में दूसरी बार बंगाल का गवर्नर बनकर आया तब उसने भारत की आन्तरिक परिस्थियों को सुधारने के लिए आवश्यक प्रयत्न किये। जिन्हें क्लाइव के प्रशासनिक…

Read more !

भारत में फ्रांसीसियों का आगमन

भारत में फ्रांसीसियों का आगमन सबसे अन्त में हुआ। फ्रांस के सम्राट लुई 14वें के मंत्री कोल्बर्ट के प्रयास से 1664 ई. में पूर्वी देशों से व्यापार करने के लिए…

Read more !

भारत में यूरोपीय कंपनियों के आगमन

भारत में यूरोपीय कम्पनियों का आगमन पुर्तगालियों के साथ प्रारम्भ होता है। पुर्तगालियों के बाद क्रमशः डच, अंग्रेज, डेनिश तथा फ्रांसीसी  भारत में व्यापार करने के लिए आये। भारत में…

Read more !