पुरुषवाचक सर्वनाम – purush vachak sarvanam with udaharan/example

पुरुषवाचक सर्वनाम

जो सर्वनाम वक्ता (बोलनेवाले), श्रोता (सुननेवाले) तथा किसी अन्य के लिए प्रयुक्त होता है, उसे पुरूषवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे- मैं, तू, वह आदि।इन वाक्यो को देखिये –

  • उसने मुझे बोला था कि तुम पढ़ रही हो।

उपर्युक्त वाक्य को ध्यान से देखने पर पता चलता है कि , इस वाक्य में तीन तरह के पुरुषवाचक शब्द आए हैं। उसने मुझे  और तुम- अतः स्पष्ट होता है कि :

पुरुषवाचक तीन प्रकार के होते हैं 

(अ) – उत्तम पुरुष ,( ब)- मध्यम पुरुष व (स) – अन्य पुरुष।

(अ) – उत्तम पुरुष –

वक्ता जिन शब्दों का प्रयोग अपने स्वयं के लिए करता है , उन्हें उत्तम पुरुष कहते हैं। जैसे – मैं , हम , मुझे , मैंने , हमें , मेरा , मुझको , आदि।
इन वाक्यो को देखिये –

( ब)- मध्यम पुरुष –

श्रोता ‘ संवाद ‘ करते समय जिन सर्वनाम शब्दों का प्रयोग करता है उन्हें मध्यम पुरुष कहते हैं – जैसे – तू , तुम , तुमको , तुझे , आप , आपको , आपके आदि।
इन वाक्यो को देखिये –

(स) – अन्य पुरुष –

जिस सर्वनाम शब्दों के प्रयोग से वक्ता और श्रोता का संबंध ना होकर किसी अन्य का संबोधन प्रतीत हो। वह शब्द अन्य पुरुष कहलाता है जैसे – वह , यह , उन , उनको , उनसे , इन्हें , उन्हें , उसके , इसने आदि।
इन वाक्यो को देखिये –

पुरुषवाचक सर्वनाम की परिभाषा –

“जिन सर्वनाम का प्रयोग वक्ता श्रोता या अन्य के लिए किया जाता है वह पुरुषवाचक कहलाता है।”

सर्वनाम के 6 भेद हैं-

  1. पुरुषवाचक
  2. निश्चयवाचक
  3. अनिश्चयवाचक
  4. संबंधवाचक
  5. प्रश्नवाचक
  6. निजवाचक

Hindi Vyakaran (हिंदी व्याकरण), Hindi Grammar Lessons in detail. Learn Hindi Vyakaran. Prepare all Hindi Grammar topics for your next exam.

purushvachak sarvanam

Related Posts

SARVANAM KE BHED / PRAKAR

प्रयोग की दृष्टि से सर्वनाम के 6 प्रकार हैं- पुरूषवाचक – मैं, तू, वह, मैंने निजवाचक – आप निश्चयवाचक (संकेतवाचक) – यह, वह अनिश्चयवाचक – कोई, कुछ संबंधवाचक – जो, सो प्रश्नवाचक – कौन, क्या सर्वनाम…

Read more !

Shringar Ras – श्रृंगार रस की परिभाषा और उदाहरण – संयोग श्रृंगार

Shringar Ras (श्रंगार रस) इसका स्थाई भाव रति होता है नायक और नायिका के मन में संस्कार रूप में स्थित रति या प्रेम जब रस कि अवस्था में पहुँच जाता…

Read more !

Yamak alankar यमक अलंकार किसे कहते हैं, यमक अलंकार की परिभाषा और उदाहरण

यमक अलंकार यमक अलंकार की परिभाषा-Definition Of Yamak Alankar जब कविता में एक ही शब्द दो या दो से अधिक बार आए और उसका अर्थ हर बार भिन्न-भिन्न हो वहां…

Read more !

यण संधि : परिभाषा एवं उदाहरण, Yan sandhi

यण संधि की परिभाषा जब संधि करते समय इ, ई के साथ कोई अन्य स्वर हो तो ‘ य ‘ बन जाता है, जब उ, ऊ के साथ कोई अन्य…

Read more !

वाक्य के भेद – Vakyo ke bhed in hindi with example

कर्ता और क्रिया के आधार पर वाक्य के भेद कर्ता और क्रिया के आधार पर वाक्य के दो भेद होते हैं- उद्देश्य  विधेय जिसके बारे में बात की जाय उसे उद्देश्य कहते हैं…

Read more !