Raudra Ras (रौद्र रस) – Hindi Grammar

Raudra Ras (रौद्र रस)

इसका स्थायी भाव क्रोध होता है जब किसी एक पक्ष या व्यक्ति द्वारा दुसरे पक्ष या दुसरे व्यक्ति का अपमान करने अथवा अपने गुरुजन आदि कि निन्दा से जो क्रोध उत्पन्न होता है उसे रौद्र रस कहते हैं इसमें क्रोध के कारण मुख लाल हो जाना, दाँत पिसना, शास्त्र चलाना, भौहे चढ़ाना आदि के भाव उत्पन्न होते हैंउदाहरण:

Raudra Ras ke Udaharan

1.
उस काल मरे क्रोध के तन काँपने उसका लगा
मानो हवा के जोर से सोता हुआ सागर जगा
2.
अतिरस बोले वचन कठोर
बेगि देखाउ मूढ़ नत आजू
उलटउँ महि जहँ जग तवराजू

Raudra Ras With Example

रस के प्रकार/भेद

क्रम रस का प्रकार स्थायी भाव
1 श्रृंगार रस रति
2 हास्य रस हास
3 करुण रस शोक
4 रौद्र रस क्रोध
5 वीर रस उत्साह
6 भयानक रस भय
7 वीभत्स रस जुगुप्सा
8 अद्भुत रस विस्मय
9 शांत रस निर्वेद
10 वात्सल्य रस वत्सलता
11 भक्ति रस अनुराग

Related Posts

Upma alankar – उपमा अलंकार किसे कहते हैं उदाहरण सहित व्याख्या

उपमा अलंकार उपमा अलंकार की परिभाषा-Definition Of Upma Alankar जहाँ पर पर दो वस्तुओं या पदार्थों में भिन्नता होते हुए भी उनकी समता की जाए या किसी वस्तु के वर्णन…

Read more !

Sarvanam ki paribhasha (सर्वनाम की परिभाषा)

“वह शब्द जो संज्ञा के बदले में आए उसे सर्वनाम कहते हैं।” अर्थात जिन शब्दों का प्रयोग संज्ञा के स्थान पर किया जाता है, उन्हें सर्वनाम कहते है। सर्वनाम Sarvanam…

Read more !

अनुस्वार और अनुनासिक – Anushwar और Anunasik

अनुस्वार और अनुनासिक बिंदु या चंद्रबिंदु को हिंदी में अनुस्वार और अनुनासिक कहा जाता है। अनुस्वार स्वर के बाद आने वाला व्यंजन है। इसकी ध्वनि नाक से निकलती है। अनुनासिक…

Read more !

अयादि संधि : परिभाषा एवं उदाहरण

अयादि संधि की परिभाषा जब संधि करते समय ए , ऐ , ओ , औ के साथ कोई अन्य स्वर हो तो (ए का अय), (ऐ का आय), (ओ का…

Read more !

Shringar Ras – श्रृंगार रस की परिभाषा और उदाहरण – संयोग श्रृंगार

Shringar Ras (श्रंगार रस) इसका स्थाई भाव रति होता है नायक और नायिका के मन में संस्कार रूप में स्थित रति या प्रेम जब रस कि अवस्था में पहुँच जाता…

Read more !