Rupak alankar – रूपक अलंकार, Hindi Grammar

Rupak Alankar

रूपक अलंकार

रूपक अलंकार की परिभाषा

जहां रूप और गुण की अत्यधिक समानता के कारण उपमेय में उपमान का आरोप कर अभेद स्थापित किया जाए वहां रूपक अलंकार होता है। इसमें साधारण धर्म और वाचक शब्द नहीं होते हैं। उपमेय और उपमान के मध्य प्रायः योजक चिन्ह का प्रयोग किया जाता है। जैसे आए महंत, वसंत आदि वसंत में महंत का आरोप होने से यहां रूपक अलंकार है।
Or
जहां उपमेय और उपमान एकरूप हो जाते हैं यानी उपमेय को उपमान के रूप में दिखाया जाता है अर्थात जब उपमेय में उपमान का आरोप किया जाता है वहां पर रूपक अलंकार होता। Rupak Alankar

Rupak Alankar Ke Udaharan In Hindi

1.
उदित उदयगिरि मंच पर, रघुबर बालपतंग।
बिकसे संत सरोज सब, हरषे लोचन-भृंग।।
स्पष्टीकरण- प्रस्तुत दोहे मेंउदयगिरिपर मंच का,रघुवरपरबाल पतंगका,संतोंपर सरोज का एवंलोचनओंपर भृगोंका अभेद आरोप होने से रूपक अलंकार है।
2.
विषय-वारि मन-मीन भिन्न नहिं,
होत कबहुँ पल एक।
स्पष्टीकरण– इस काव्य पंकित मेंविषयपर वारि का औरमनपर मीन का अभेद आरोप होने से यहां रूपक अलंकार है।
3.
सिर झुका तूने नियति की मान की यह बात।
स्वयं ही मुर्झा गया तेरा हृदय-जलजात।।
स्पष्टीकरण– उपयुक्त काव्य पंक्ति मेंहृदय जल जातमेंहृदयउपमेय परजलजात(कमल) उपमान का अभेद आरोप किया गया है। अतः यहां पर रूपक अलंकार होगा।

रूपक अलंकार के महत्वपूर्ण अन्य उदाहरण-

१-मैया मैं तो चंद्र-खिलौना लैहों।
२-मन-सागर, मनसा लहरि, बड़े-बहे अनेक।
३-शशि-मुख पर घूंघट डाले
अंचल में दीप छिपाए।
४-अपलक नभ नील नयन विशाल
५-चरण-कमल बंदों हरिराइ।
६-सब प्राणियों के मत्तमनोममयूर अहा नाच रहा.

Related Posts

सयुंक्त व्यंजन – Sanyukt Vyanjan

सयुंक्त व्यंजन (Mixed Consonants) वैसे तो जहाँ भी दो अथवा दो से अधिक व्यंजन मिल जाते हैं वे संयुक्त व्यंजन कहलाते हैं, किन्तु देवनागरी लिपि में संयोग के बाद रूप-परिवर्तन…

Read more !

विसर्ग संधि किसे कहते हैं? विसर्ग संधि के उदाहरण, भेद, परिभाषा, सूत्र, संस्कृत और हिन्दी में

विसर्ग संधि की परिभाषा जब संधि करते समय विसर्ग के बाद स्वर या व्यंजन वर्ण के आने से जो विकार उत्पन्न होता है, हम उसे विसर्ग संधि कहते हैं। जैसे:…

Read more !

अर्थ के आधार पर वाक्य के भेद – Arth ke aadhar par vakya ke bhed

अर्थ के आधार पर वाक्य के भेद अर्थ के आधार पर 8 प्रकार के वाक्य होते हैं – विधान वाचक वाक्य निषेधवाचक वाक्य प्रश्नवाचक वाक्य विस्म्यादिवाचक वाक्य आज्ञावाचक वाक्य इच्छावाचक…

Read more !

Anyokti alankar – अन्योक्ति अलंकार, Hindi Grammar

अन्योक्ति अलंकार अन्योक्ति अलंकार की परिभाषा- जहां अप्रस्तुत के द्वारा प्रस्तुत का व्यंग्यात्मक कथन किया जाए, वहां अन्योक्ति अलंकार होता है। अन्योक्ति अलंकार के उदाहरण- 1. नहिं पराग नहिं मधुर…

Read more !

यण संधि : परिभाषा एवं उदाहरण, Yan sandhi

यण संधि की परिभाषा जब संधि करते समय इ, ई के साथ कोई अन्य स्वर हो तो ‘ य ‘ बन जाता है, जब उ, ऊ के साथ कोई अन्य…

Read more !