संबंधवाचक सर्वनाम – sambandh vachak sarvanam

संबंधवाचक सर्वनाम –

जो सर्वनाम किसी दूसरी संज्ञा या सर्वनाम से संबंध दिखाने के लिए प्रयुक्त हो, उसे संबंधवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे- जो करेगा सो भरेगा। इस वाक्य में जो शब्द संबंधवाचक सर्वनाम है और सो शब्द नित्य संबंधी सर्वनाम है। अधिकतर सो लिए वह सर्वनाम का प्रयोग होता है।

इन वाक्यो को देखिये –

  • जो कर्म करेगा फल उसीको मिलेगा।
  • जिसकी लाठी उसकी भैंस।
  • जैसा कर्म वैसा फल

जो‘ , ‘उसे‘ , ‘जिसकी‘ , ‘उसकी‘ , ‘जैसा‘ , ‘वैसा‘ इन सार्वनामिक शब्दों में परस्पर संबंध की प्रतीति हो रही है। ऐसे शब्द संबंधवाचक कहलाते हैं।

इस की परिभाषा –

 वह सर्वनाम शब्द जो किसी वाक्य में प्रयुक्त संज्ञा अथवा सर्वनाम के संबंध का बोध कराएं उसे संबंधवाचक सर्वनाम कहते हैं जैसे – ‘ जो’ , ‘सो’ , ‘उसी’ आदि।

सर्वनाम के 6 भेद हैं-

  1. पुरुषवाचक
  2. निश्चयवाचक
  3. अनिश्चयवाचक
  4. संबंधवाचक
  5. प्रश्नवाचक
  6. निजवाचक

Hindi Vyakaran (हिंदी व्याकरण), Hindi Grammar Lessons in detail. Learn Hindi Vyakaran. Prepare all Hindi Grammar topics for your next exam.

sambandh vachak sarvanam

Related Posts

रचना के आधार पर वाक्य के भेद – Rachana ki drashti se vakya ke prakar

रचना के आधार पर वाक्य के भेद: रचना के आधार पर वाक्य के निम्नलिखित 3 भेद होते हैं:- 1. सरल वाक्य/साधारण वाक्य जिन वाक्यो मे एक ही विधेय होता है,…

Read more !

संज्ञा और संज्ञा के भेद: Sangya ke Bhed – with example

Sangya ke Bhed: जातिवाचक, व्यक्तिवाचक और भाववाचक। अर्थात मूलतः संज्ञा के तीन भेद (प्रकार) होते हैं जातिवाचक संज्ञा, भाववाचक संज्ञा और व्यक्ति वाचक संज्ञा। परन्तु अंग्रेजी व्याकरण के प्रभाव के…

Read more !

Rupak alankar – रूपक अलंकार, Hindi Grammar

रूपक अलंकार रूपक अलंकार की परिभाषा जहां रूप और गुण की अत्यधिक समानता के कारण उपमेय में उपमान का आरोप कर अभेद स्थापित किया जाए वहां रूपक अलंकार होता है।…

Read more !

Shant Ras (शांत रस) – Hindi Grammar

Shant Ras (शांत रस) इसका स्थायी भाव निर्वेद (उदासीनता) होता है इस रस में तत्व ज्ञान कि प्राप्ति अथवा संसार से वैराग्य होने पर, परमात्मा के वास्तविक रूप का ज्ञान…

Read more !

Vachya in hindi – Vachya Aur Vachya ke Bhed – वाच्य

Definition of Voice वाच्य की परिभाषा 1-कर्ता, कर्म अथवा भाव के अनुसार क्रिया के लिंग, वचन तथा पुरुष का होना वाच्य (Vachya) कहलाता है। जैसे १-उमा खाती है। कर्ता उमा के…

Read more !