संवृत और विवृत स्वर – Samvrit और Vivrat Swar

Samvrit और Vivrat Swar

संवृत और विवृत स्वर

संवृत स्वर: संवृत स्वर या ऊँचा स्वर ऐसी स्वर ध्वनि होती है जिसमें, बिना व्यंजन की ध्वनि बनाए, जिह्वा को मुँह में जितना सम्भव हो सके उतना ऊँचा और तालू से समीप रखा जाता है। उदाहरण के लिए ‘ई’ ऐसा एक स्वर है। अगर जिह्वा को किसी संवृत स्वर से अधिक ऊपर उठाया जाए तो वायु-प्रवाह बंद हो जाता है और ध्वनि स्वर की नहीं बल्कि व्यंजन (कॉन्सोनेन्ट) की बन जाती है।

विवृत स्वर: विवृत स्वर या निम्न स्वर ऐसी स्वर ध्वनि होती है जिसमें जिह्वा को मुँह में जितना सम्भव हो सके उतना नीचे और तालू से दूर रखा जाता है। उदाहरण के लिए “आ” ऐसा एक स्वर है।

संवृत और विवृत स्वर के भेद या प्रकार

1. संवृत स्वर (samvrit swar)

संवृत स्वर के उच्चारण में मुख द्वार सकरा हो जाता है। ये संख्या में चार होते है – इ , ई , उ , ऊ 

2. अर्द्ध संवृत स्वर (ardhd samvrat swar)

अर्द्ध संवृत स्वर के उच्चारण में मुख द्वार कम सकरा होता है। ये संख्या में 2 होते है – ए , ओ 

3. विवृत स्वर (vivrat swar)

विवृत स्वर के उच्चारण में मुख द्वार पूरा खुला होता है। ये संख्या में 2 है – आ , आँ 

4. अर्द्ध विवृत स्वर (ardhd vivrat swar)

अर्द्ध विवृत स्वर के उच्चारण में मुख द्वार अधखुला होता है। ये संख्या में 4 होते है – अ , ऐ , औ , ऑ

Related Posts

वाक्य की परिभाषा – definition of vakya in hindi

वाक्य की परिभाषा: शब्दों का व्यवस्थित रूप जिससे मनुष्य अपने विचारों का आदान प्रदान करता है उसे वाक्य कहते हैं एक सामान्य वाक्य में क्रमशः कर्ता, कर्म और क्रिया होते…

Read more !

Vyanjan Sandhi in hindi – व्यंजन संधि परिभाषा, उदाहरण, भेद

Vyanjan sandhi in hindi व्यंजन संधि की परिभाषा-Definition of Vyanjan Sandhi व्यंजन के बाद यदि किसी स्वर या व्यंजन के आने से उस व्यंजन में जो विकार / परिवर्तन उत्पन्न…

Read more !

Vibhats Ras (वीभत्स रस) – Hindi Grammar

Vibhats Ras (वीभत्स रस) इसका स्थायी भाव जुगुप्सा होता है घृणित वस्तुओं, घृणित चीजो या घृणित व्यक्ति को देखकर या उनके संबंध में विचार करके या उनके सम्बन्ध में सुनकर…

Read more !

Chhand in hindi – Example of chhand in hindi grammar

छंद- छंद शब्द संस्कृत के छिदि धातु से बना है छिदि का अर्थ है ढकना, आच्छादित करना। सर्वप्रथम छंद की चर्चा ऋग्वेद में आई है। छांदोग्य उपनिषद में कहा गया…

Read more !

Raudra Ras (रौद्र रस) – Hindi Grammar

Raudra Ras (रौद्र रस) इसका स्थायी भाव क्रोध होता है जब किसी एक पक्ष या व्यक्ति द्वारा दुसरे पक्ष या दुसरे व्यक्ति का अपमान करने अथवा अपने गुरुजन आदि कि…

Read more !