सन्यासी विद्रोह-Sanyasi Rebellion

सन्यासी विद्रोह 1763 ई. से प्रारम्भ होकर 1800 ई. तक चला। यह बंगाल के गिरि सम्प्रदाय के सन्यासियों द्वारा शुरू किया गया था।

इसमें जमींदार, कृषक तथा शिल्पकारों ने भी भाग लिया। इन सबने मिलकर कम्पनी की कोठियों और कोषों पर आक्रमण किये। ये लोग कम्पनी के सैनिकों से बहुत वीरता से लड़े।

वारेन हेस्टिंग्स एक लम्बे अभियान के पश्चात ही सन्यासी विद्रोह का दमन कर पाया।

 

सन्यासी आन्दोलन का उल्लेख ‘बंकिमचंद्र चट्टोपाध्याय’ ने अपने प्रसिद्ध उपन्यास “आनन्दमठ” में किया है। इस विद्रोह में सम्मिलित लोग “ओउम् वन्देमातरम” का नारा लगाते थे।

सन्यासी आन्दोलन की खासियत ‘हिन्दू-मुस्लिम एकता’ थी। इस विद्रोह के प्रमुख नेता मजमून शाह, मूसा शाह, द्विज नारायण, भवानी पाठक, चिरागअली व देवी चौधरानी आदि थे।

सन्यासी विद्रोह के कारण

सन्यासी विद्रोह का मुख्य कारण तीर्थ यात्रा पर प्रतिबन्ध लगाना तथा कठोरता से भू-राजस्व वसूलना था।

सन्थाल विद्रोह के परिणाम

प्लासी के युद्ध के बाद बंगाल में अंग्रेजी राज्य की स्थापित हो गया। अतः अंग्रेजों ने अपनी नई आर्थिक नीतियां स्थापित की। जिसके कारण भारतीय जमींदार, कृषक व शिल्पकार नष्ट होने लगे।

1770 ई. में बंगाल में भयंकर अकाल पड़ा। अकाल के समय भी राजस्व वसूली कठोरता से की गयी। जिससे कृषकों के मन में विद्रोह की भावना जागने लगी।

तीर्थ स्थानों पर आने-जाने पर लगे प्रतिबन्ध से सन्यासी लोग बहुत क्षुब्द हो गये। सन्यासियों में अन्याय के विरुद्ध लड़ने की परम्परा थी। अतः उन्होंने अंग्रेजों का विरोध किया। उनके साथ जमींदार, शिल्पी व कृषक भी हो गये।

सन्यासी विद्रोह का नेतृत्व धार्मिक मठवासियों और बेदखल जमींदारों ने किया। बोगरा नामक स्थान पर इन लोगों ने अपनी सरकार बनाई। सन्यासी विद्रोह को कुचलने के लिए वारेन हेस्टिंग्स को कठोर कार्यवाही करनी पड़ी।

Related Posts

सल्तनत काल-Sultanate period

1206 ई. से लेकर 1526 ई. तक के समय को “सल्तनत काल” के नाम से जाना जाता है। क्योंकि इस काल के शासकों को सुल्तान कहा जाता था। इस काल…

Read more !

मौर्य काल की प्रशासनिक व्यवस्था

मौर्य काल की प्रशासनिक व्यवस्था का भारतीय प्रशासनिक इतिहास में महत्वपूर्ण स्थान है। यह भारत की प्रथम केन्द्रीकृत प्रशासन व्यवस्था थी। मौर्य प्रशासन के अन्तर्गत ही भारत में पहली बार…

Read more !

1857 की क्रान्ति-Revolution of 1857

1857 की क्रान्ति भारतीय इतिहास की सर्वाधिक महत्वपूर्ण घटनाओं में से एक है। जिस समय यह “भारत का प्रथम स्वतन्त्रता संग्राम” हुआ, उस समय इंग्लैंड का प्रधानमंत्री “विस्कान्ट पामर्स्टन” तथा…

Read more !

1857 की क्रान्ति के कारण-Causes of the Revolt of 1857

1857 की क्रान्ति कोई अचानक भड़का हुआ विद्रोह नहीं था। वरन इसके पीछे अनेक आधारभूत कारण थे। यद्यपि तत्कालीन “अंग्रेज तथा भारतीय” इतिहासकारों ने सैनिक असन्तोष तथा चर्बी वाले कारतूसों…

Read more !

नील विद्रोह और उसके परिणाम-Nile rebellion and its Results

नील विद्रोह 1959 ई. में बंगाल के किसानों ने अंग्रेज नील उत्पादकों के विरुद्ध किया। इस विद्रोह का नेतृत्व दिगम्बर विश्वास तथा विष्णु विश्वास नामक स्थानीय नेताओं ने किया था।…

Read more !