सयुंक्त व्यंजन – Sanyukt Vyanjan

Sanyukt Vyanjan - Hindi

सयुंक्त व्यंजन (Mixed Consonants)

वैसे तो जहाँ भी दो अथवा दो से अधिक व्यंजन मिल जाते हैं वे संयुक्त व्यंजन कहलाते हैं, किन्तु देवनागरी लिपि में संयोग के बाद रूप-परिवर्तन हो जाने के कारण इन चार को गिनाया गया है।
ये दो-दो व्यंजनों से मिलकर बने हैं। जैसे-

  1. क्ष   =   क्  +  ष    =  अक्षर
  2. त्र    =   त्  +  र      =  नक्षत्र 
  3. ज्ञ   =   ज्  +  ञ    =   ज्ञान
  4. श्र    =    श्  +  र     =    श्रवन 

कुछ लोग क्ष् त्र् और ज्ञ् को भी हिन्दी वर्णमाला में गिनते हैं, पर ये संयुक्त व्यंजन हैं। अतः इन्हें वर्णमाला में गिनना उचित प्रतीत नहीं होता।

Sanyukt Vyanjan

Related Posts

व्यंजन के भेद – Vyanjan ke Bhed or Prakar

हिन्दी वर्णमाला में व्यंजन के तीन भेद होते हैं स्पर्श, अंतःस्थ और ऊष्म। व्यंजन के तीनों भेद का विवरण नीचे दिया गया है। व्यंजन निम्नलिखित तीन भेद हैं स्पर्श अंतःस्थ…

Read more !

अनिश्चयवाचक सर्वनाम – Anishchay vachak sarvanam

अनिश्चयवाचक सर्वनाम – जिस सर्वनाम से किसी निश्चित व्यक्ति या पदार्थ का बोध नहीं होता, उसे अनिश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे- बाहर कोई है। मुझे कुछ नहीं मिला। इन वाक्यो…

Read more !

Shant Ras (शांत रस) – Hindi Grammar

Shant Ras (शांत रस) इसका स्थायी भाव निर्वेद (उदासीनता) होता है इस रस में तत्व ज्ञान कि प्राप्ति अथवा संसार से वैराग्य होने पर, परमात्मा के वास्तविक रूप का ज्ञान…

Read more !

संज्ञा और संज्ञा के भेद: Sangya ke Bhed – with example

Sangya ke Bhed: जातिवाचक, व्यक्तिवाचक और भाववाचक। अर्थात मूलतः संज्ञा के तीन भेद (प्रकार) होते हैं जातिवाचक संज्ञा, भाववाचक संज्ञा और व्यक्ति वाचक संज्ञा। परन्तु अंग्रेजी व्याकरण के प्रभाव के…

Read more !

SARVANAM KE BHED / PRAKAR

प्रयोग की दृष्टि से सर्वनाम के 6 प्रकार हैं- पुरूषवाचक – मैं, तू, वह, मैंने निजवाचक – आप निश्चयवाचक (संकेतवाचक) – यह, वह अनिश्चयवाचक – कोई, कुछ संबंधवाचक – जो, सो प्रश्नवाचक – कौन, क्या सर्वनाम…

Read more !