Sarvanam ki paribhasha (सर्वनाम की परिभाषा)

“वह शब्द जो संज्ञा के बदले में आए उसे सर्वनाम कहते हैं।” अर्थात जिन शब्दों का प्रयोग संज्ञा के स्थान पर किया जाता है, उन्हें सर्वनाम कहते है।

Sarvanam ki paribhasha
सर्वनाम

Sarvanam Ki Paribhahsa

सर्वनाम दो शब्दों के योग से बना है सर्व + नाम , अर्थात जो नाम सब के स्थान पर प्रयुक्त हो उसे सर्वनाम कहा जाता है।
सर्वनाम उदाहरण से समझिये –

  • मोहन 11वीं कक्षा में पढ़ता है।
  • मोहन स्कूल जा रहा है।
  • मोहन के पिताजी पुलिस हैं।
  • मोहन की माताजी डॉक्टर है।
  • मोहन की बहन खाना बना रही है।

जैसे – मैं , तुम , हम , वह , आप , उसका , उसकी , वह आदि।

इसके शाब्दिक अर्थ को समझें तो यही प्रतीत होता है कि “ सबका नाम ” यह शब्द किसी व्यक्ति विशेष के द्वारा प्रयुक्त ना होकर सबके द्वारा प्रयुक्त होते हैं। किसी एक का नाम ना होकर सबका नाम होते हैं। मैं का प्रयोग सभी व्यक्ति अपने लिए करते हैं। अतः मैं किसी एक का नाम ना होकर सबका नाम है।

सर्वनाम और उसके भेद – कितने भेद हैं ?

हिन्दी व्याकरण में सर्वनाम के 6 भेद हैं-

  1. पुरुषवाचक
  2. निश्चयवाचक
  3. अनिश्चयवाचक
  4. संबंधवाचक
  5. प्रश्नवाचक
  6. निजवाचक
Hindi Vyakaran (हिंदी व्याकरण), Hindi Grammar Lessons in detail. Learn Hindi Vyakaran. Prepare all Hindi Grammar topics for your next exam.

Sarvanam Ki Paribhahsa

Related Posts

यण संधि : परिभाषा एवं उदाहरण, Yan sandhi

यण संधि की परिभाषा जब संधि करते समय इ, ई के साथ कोई अन्य स्वर हो तो ‘ य ‘ बन जाता है, जब उ, ऊ के साथ कोई अन्य…

Read more !

Ras – रस, Class 10 Hindi Grammar, Notes, Example, कक्षा 10 हिंदी Grammar – रस

Ras Definition – रस का अर्थ  रस का शाब्दिक अर्थ है ‘आनन्द’। काव्य को पढ़ने या सुनने से जिस आनन्द की अनुभूति होती है, उसे ‘रस’ कहा जाता है।रस का…

Read more !

हिंदी के कवि एवं उनकी रचनाएं (Hindi Ke Kavi Aur Rachnaye)

हिंदी के प्रसिद्ध कवि एवं उनकी रचनाएं निचे दिए गए लेख को आप सभी Students एक बार अच्छे से जरुर पढ़ ले, यहाँ तैयारी करने से आप सभी परीक्षा में…

Read more !

KARUN RAS -करुण रस – Hindi Grammar

Karun Ras -करुण रस इसका स्थायी भाव शोक होता है इस रस में किसी अपने का विनाश या अपने का वियोग, द्रव्यनाश एवं प्रेमी से सदैव विछुड़ जाने या दूर…

Read more !

व्यंजन के भेद – Vyanjan ke Bhed or Prakar

हिन्दी वर्णमाला में व्यंजन के तीन भेद होते हैं स्पर्श, अंतःस्थ और ऊष्म। व्यंजन के तीनों भेद का विवरण नीचे दिया गया है। व्यंजन निम्नलिखित तीन भेद हैं स्पर्श अंतःस्थ…

Read more !