Shant Ras (शांत रस) – Hindi Grammar

Shant Ras (शांत रस)

इसका स्थायी भाव निर्वेद (उदासीनता) होता है इस रस में तत्व ज्ञान कि प्राप्ति अथवा संसार से वैराग्य होने पर, परमात्मा के वास्तविक रूप का ज्ञान होने पर मन को जो शान्ति मिलती है वहाँ शान्त रस कि उत्पत्ति होती है जहाँ न दुःख होता है, न द्वेष होता है मन सांसारिक कार्यों से मुक्त हो जाता है मनुष्य वैराग्य प्राप्त कर लेता है शान्त रस कहा जाता है।

Shant Ras

उदाहरण:

Shant Ras ke Udaharan

1.
जब मै था तब हरि नाहिं अब हरि है मै नाहिं
सब अँधियारा मिट गया जब दीपक देख्या माहिं
2.
देखी मैंने आज जरा
हो जावेगी क्या ऐसी मेरी ही यशोधरा
हाय! मिलेगा मिट्टी में वह वर्ण सुवर्ण खरा
सुख जावेगा मेरा उपवन जो है आज हरा।
3.
लम्बा मारग दूरि घर विकट पंथ बहुमार,
कहौ संतो क्युँ पाइए दुर्लभ हरि दीदार।
4.
मन रे तन कागद का पुतला
लागै बूँद विनसि जाय छिन में गरब करै क्यों इतना।
5.
‘तपस्वी! क्यों इतने हो क्लांत,
वेदना का यह कैसा वेग ?
आह! तुम कितने अधिक हताश
बताओ यह कैसा उद्वेग ?
6.
भरा था मन में नव उत्साह सीख लूँ ललित कला का ज्ञान
इधर रह गंधर्वों के देश, पिता की हूँ प्यारी संतान।

रस के प्रकार/भेद

क्रम रस का प्रकार स्थायी भाव
1 श्रृंगार रस रति
2 हास्य रस हास
3 करुण रस शोक
4 रौद्र रस क्रोध
5 वीर रस उत्साह
6 भयानक रस भय
7 वीभत्स रस जुगुप्सा
8 अद्भुत रस विस्मय
9 शांत रस निर्वेद
10 वात्सल्य रस वत्सलता
11 भक्ति रस अनुराग

Related Posts

अनिश्चयवाचक सर्वनाम – Anishchay vachak sarvanam

अनिश्चयवाचक सर्वनाम – जिस सर्वनाम से किसी निश्चित व्यक्ति या पदार्थ का बोध नहीं होता, उसे अनिश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे- बाहर कोई है। मुझे कुछ नहीं मिला। इन वाक्यो…

Read more !

अनुस्वार और अनुनासिक – Anushwar और Anunasik

अनुस्वार और अनुनासिक बिंदु या चंद्रबिंदु को हिंदी में अनुस्वार और अनुनासिक कहा जाता है। अनुस्वार स्वर के बाद आने वाला व्यंजन है। इसकी ध्वनि नाक से निकलती है। अनुनासिक…

Read more !

गुण संधि : परिभाषा एवं उदाहरण

गुण संधि की परिभाषा जब संधि करते समय (अ, आ) के साथ (इ, ई) हो तो ‘ए‘ बनता है, जब (अ, आ) के साथ (उ, ऊ) हो तो ‘ओ‘ बनता…

Read more !

रचना के आधार पर वाक्य के भेद – Rachana ki drashti se vakya ke prakar

रचना के आधार पर वाक्य के भेद: रचना के आधार पर वाक्य के निम्नलिखित 3 भेद होते हैं:- 1. सरल वाक्य/साधारण वाक्य जिन वाक्यो मे एक ही विधेय होता है,…

Read more !

Vilom Shabd (विलोम शब्द) in Hindi Vyakaran, Hindi Grammar

Vilom Shabd Vilom Shabd (विलोम शब्द): एक़-दूसरे के विपरीत या उल्टा अर्थ देने वाले शब्द विलोम (Vilom Shabd) कहलाते है। सरल शब्दों में- जो शब्द किसी दूसरे शब्द का उल्टा अर्थ…

Read more !