Slesh alankar – श्लेष अलंकार, Hindi Grammar

Slesh Alankar

श्लेष अलंकार

Definition Of Slesh Alankar:

“श्लेष” का अर्थ है-“चिपकना” । जहां एक शब्द एक ही बार प्रयुक्त होने पर दो अर्थ दे वहां श्लेष अलंकार होता है। अर्थात जहां एक ही शब्द से दो अर्थ चिपके हो वहां पर श्लेष अलंकार होता है।

Shlesh Alankar Ka Udaaharan

रहिमन पानी राखिये,बिन पानी सब सून।
पानी गये न ऊबरै, मोती मानुष चून।।
स्पष्टीकरण-यहां पर पानी शब्द के तीन अर्थ प्रयुक्त हुआ है।
१-चमक
२-सम्मान
३-चून
चरन धरत चिंता करत,
चितवत चारों ओर –
सुवरन को खोजत फिरत,
कवि, व्यभिचारी, चोर –
स्पष्टीकरण-उपर्युक्त दोहे की दूसरी पंक्ति में “सुबरन” का प्रयोग किया गया है जिसे कवि, व्यभिचारी और चोर- तीनों ढूंढ रहे हैं। इस प्रकार एक शब्द सुबरन के यहां तीन अर्थ है।
१- कवि सुबरन अर्थात अच्छे शब्द
२-व्यभिचारी सुबरन अर्थात अच्छा रूप रंग और
३-चोर भी सुबरन अर्थात स्वर्ण ढूंढ रहा है।
अतः यहाँ पर श्लेष अलंकार है।

श्लेष अलंकार के अन्य उदाहरण-

1.
जे रहीम गति दीप की,
कुल कपूत गति सोय।
बारे उजियारो करै,
बढ़े अंघेरो होय।
2.
सीधी चलते राह जो,रहते सदा निशंक-
जो करते विप्लव, उन्हें, ‘हरि’ का है आतंक।
3.
विमाता बन गई आधी भयावह।
हुआ चंचल ना फिर भी श्याम घन वह।
4.
चिरजीवो जोरी जुरे क्यों न सनेह गंभीर।
को घटि ये वृष भानुजा, वे हलधर के बीर।।

Related Posts

Hindi Ki Matra – हिंदी मात्राएँ

मात्राएँ- Hindi Ki Matraye स्वरों के बदले हुए स्वरूप को मात्रा कहते हैं स्वरों की मात्राएँ निम्नलिखित हैं: स्वर मात्राएँ शब्द अ × कम  आ ा काम  इ ि किसलये …

Read more !

संवृत और विवृत स्वर – Samvrit और Vivrat Swar

संवृत और विवृत स्वर संवृत स्वर: संवृत स्वर या ऊँचा स्वर ऐसी स्वर ध्वनि होती है जिसमें, बिना व्यंजन की ध्वनि बनाए, जिह्वा को मुँह में जितना सम्भव हो सके…

Read more !

Vilom Shabd (विलोम शब्द) in Hindi Vyakaran, Hindi Grammar

Vilom Shabd Vilom Shabd (विलोम शब्द): एक़-दूसरे के विपरीत या उल्टा अर्थ देने वाले शब्द विलोम (Vilom Shabd) कहलाते है। सरल शब्दों में- जो शब्द किसी दूसरे शब्द का उल्टा अर्थ…

Read more !

वर्णों के उच्चारण स्थान – Varno ka uchcharan

परिभाषा मुख के जिस भाग से जिस वर्ण का उच्चारण होता है उसे उस वर्ण का उच्चारण स्थान कहते हैं। उच्चारण-स्थान मुख के अंदर स्थान-स्थान पर हवा को दबाने से…

Read more !

संज्ञा और संज्ञा के भेद: Sangya ke Bhed – with example

Sangya ke Bhed: जातिवाचक, व्यक्तिवाचक और भाववाचक। अर्थात मूलतः संज्ञा के तीन भेद (प्रकार) होते हैं जातिवाचक संज्ञा, भाववाचक संज्ञा और व्यक्ति वाचक संज्ञा। परन्तु अंग्रेजी व्याकरण के प्रभाव के…

Read more !