ताड़ासन करने का तरीका और फायदे – Tadasana (Mountain Pose) steps and benefits in Hindi

ताड़ासन किसे कहते हैं? Tadasana Ki Paribhasha

ताड़ासन को समस्थिति भी कहा जाता है। ताड़ शब्द का अर्थ संस्कृत में पर्वत होता है, जिसके ऊपर इस आसन का नाम रखा गया है। ताड़ासन योग का एक मूलभूत आसन है क्योंकि यह आसन अनेक आसनों का आधार है।

इस आसन का अभ्यास दिन के किसी भी समय किया जा सकता है। यह अनिवार्य नहीं है कि इस आसन को खाली पेट ही किया जाना चाहिए। लेकिन इस आसन को करने से कम से कम चार से छह घंटे पहले अपना भोजन करना सबसे अच्छा है। यह भी सुनिश्चित करें कि आपकी आंत साफ हो।

Tadasana

ताड़ासन करने की विधि – Tadasana Karne Ki Vidhi

  • सीधे पैर पर खड़े हो ज़ाये।
  • दोनो पैर को आप पास में मिल कर रखे, दोनों हाथो को कमर से साटकर रखे ।

ताड़ासन के फायदे – Tadasana (Mountain Pose) ke fayde

ताड़ासन के लाभ इस प्रकार हैं:

  1. यह आसन शारीरिक और मानसिक संतुलन विकसित करता है।
  2. शरीर के पोस्चर में सुधार लाता है।
  3. जांघों, घुटनों और टखनों को मजबूत करता है।
  4. पेट और नितंबों को टोन करता है।
  5. रीढ़ की हड्डी में खिचाव लाकर उसके विकारों को मिटाता है।
  6. कटिस्नायुशूल (साइटिका) से राहत दिलाता है।
  7. फ्लैट पैर की परेशानी में मदद करता है।

ताड़ासन करने का तरीका – Tadasana (Mountain Pose) karne ka tarika in Hindi

ताड़ासन करने का तरीका इस प्रकार है:

  1. दोनो पंजों को मिलाकर या उनके बीच 10 सेंटीमीटर की जगह छोड़ कर खड़े हो जायें, और बाज़ुओं को बगल में रखें।
  2. शरीर को स्थिर करें और शरीर का वजन दोनों पैरों पर समान रूप से वितरित करें।
  3. भुजाओं को सिर के उपर उठाएं। उंगलियों को आपस में फसा कर हथेलियों को ऊपर की तरफ रखें।
  4. सिर के स्तर से थोड़ा ऊपर दीवार पर एक बिंदु पर आँखें टीका करें रखें। पुर अभ्यास के दौरान आंखें इस बिंदु पर टिका कर रखें।
  5. बाज़ुओं, कंधों और छाती को ऊपर की तरफ खींचें और फैलाएं।पैर की उंगलियों पर आ जायें ताकि दोनो एड़ी उपर उठ जायें।
  6. बिना संतुलन और बिना पैरों को हिलायें, पूरे शरीर को ऊपर से नीचे तक ताने।
  7. श्वास लेते रहें और कुछ सेकंड के लिए इस मुद्रा में ही रहें।
  8. शुरुआत में संतुलन बनाए रखना मुश्किल हो सकता है लेकिन अभ्यास के साथ यह आसान हो जाएगा।
  9. आसन से बाहर निकलने के लिए सारे स्टेप्स विपरीत क्रम में करें।
  10. यह एक चक्र है।
  11. अगले चक्र से पहले कुछ सेकंड के लिए आराम करें। 5 से 10 चक्र का अभ्यास करें।

ताड़ासन का आसान रूपांतर – Tadasana (Mountain Pose) ke Modifications in Hindi

ताड़ासन को थोड़ा आसान बनाने के लिए आप यह बदलाव कर सकते हैं:

  1. अगर आप अपने पैर की उंगलियों पर खड़े हो कर ज़्यादा देर संतुलन नहीं बना पा रहे हों, तो दीवार का सहारा ले सकते हैं।
  2. अगर यह भी कठिन लगे, तो पैरों को ज़मीन पर टिकाए रख कर इस आसन का अभ्यास करें।

ताड़ासन के लाभ । Tadasana Ke Labh

  • शरीर की बनावट में सुधार करता है।
  • जांघों, घुटनों और टखनों को मजबूत करता है।
  • पैरों और कूल्हों में ताकत और गतिशीलता बढ़ाता है।
  • सपाट पैरों को कम करता है।
  • रीढ़ को शक्ति और लचीला बनता है ।
  • पूरे शरीर में तनाव और दर्द से राहत दिलाता है।
  • रक्त परिसंचरण और पाचन स्वस्थ में सुधार करता है।
  • शरीर की लम्बाई बढ़ने के लिए मददग़ार है ।

सावधानियां – Savdhaniya

  • सिरदर्द, अनिद्रा या रक्तचाप से पीड़त को इस आसन से बचना चहिये । 
योग क्‍या है, योग कैसे किया जाता है, योग कैसे काम करता है, विभिन्‍न बीमारियों को दूर करने के लिए योग कैसे करें, योग के क्‍या फायदे हैं, मोटापा दूर करने के लिए योग और योग के अन्‍य फायदों के बारे में अधिक जानकारी के लिए पूरा लेख पढ़ें- योग के प्रमुख आसन, योग के लाभ, Yoga Asanas in Hindi.