ऊर्ध्व सर्वांगासन – करने का तरीका और फायदे, Urdhva Sarvangasana in Hindi

Urdhva Sarvangasana

ऊर्ध्व सर्वांगासन (Urdhva Sarvangasana)

सर्व-अंग एवं आसन अर्थात सर्वांगासम। इस आसन को करने से सभी अंगों को व्यायाम मिलता है इसीलिए इसे सर्वांगासन कहते हैं।

सर्वांगासम में सावधानी

  1. कोहनियाँ भूमि पर टिकी हुई हों और पैरों को मिलाकर सीधा रखें।
  2. पंजे ऊपर की ओर तने हुए एवं आँखें बंद हों अथवा पैर के अँगूठों पर दॄष्टि रखें।
  3. जिन लोगों को गर्दन या रीढ़ में ‍शिकायत हो उन्हें यह आसन नहीं करना चाहिए।

सर्वांगासम के लाभ

  1. थायराइड एवं पिच्युटरी ग्लैंड के मुख्य रूप से क्रियाशील होने से यह कद वृद्धि में लाभदायक है।
  2. दमा, मोटापा, दुर्बलता एवं थकानादि विकार दूर होते है।
  3. इस आसन का पूरक आसन मत्स्यासन है, अतः शवासन में विश्राम से पूर्व मत्स्यासन करने से इस आसन से अधिक लाभ प्राप्त होते हैं।

योग क्‍या है, योग कैसे किया जाता है, योग कैसे काम करता है, विभिन्‍न बीमारियों को दूर करने के लिए योग कैसे करें, योग के क्‍या फायदे हैं, मोटापा दूर करने के लिए योग और योग के अन्‍य फायदों के बारे में अधिक जानकारी के लिए पूरा लेख पढ़ें- योग के प्रमुख आसन और उनके लाभ, Yoga Asanas in Hindi

Related Posts

ताड़ासन करने का तरीका और फायदे – Tadasana (Mountain Pose) steps and benefits in Hindi

ताड़ासन किसे कहते हैं? Tadasana Ki Paribhasha ताड़ासन को समस्थिति भी कहा जाता है। ताड़ शब्द का अर्थ संस्कृत में पर्वत होता है, जिसके ऊपर इस आसन का नाम रखा…

Read more !

शलभासन – शलभासन की प्रक्रिया और लाभ, Salabhasana in Hindi

शलभासन (Salabhasana) शलभ का अर्थ टिड्डी (Locust ) होता है। इस आसन की अंतिम मुद्रा में शरीर टिड्डी (Locust ) जैसा लगता है, इसलिए इसे इस नाम से जाना जाता…

Read more !

शीर्षासन – करने का तरीका और फायदे, Sirsasana in Hindi

शीर्षासन (Sirsasana) शीर्षासन का नाम शीर्ष शब्द पर रखा गया है, जिसका मतलब होता है सिर। शीर्षासन को सभ आसनों का राजा माना जाता है। इसे करना शुरुआत में कठिन…

Read more !

त्रिकोणासन – फायदे और करने का तरीका, Trikonasana in Hindi

त्रिकोणासन (Trikonasana) त्रिकोणासन संस्कृत के दो शब्दों ‘त्रिकोण’ और ‘आसन’ से मिलकर बना है। इसका मतलब त्रिकोण होता है। त्रिकोणासन स्वास्थ्य के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है, और इस आसने…

Read more !

जानुशीर्षासन – जानुशीर्षासन करने का तरीका और फायदे, Janu Shirshasana

जानुशीर्षासन (Janu Shirshasana) जानुशीर्षासन योग एक संस्कृत का शब्द हैं, यह दो शब्दों से मिलकर बना हैं जिसमे पहला शब्द ‘जानु’ हैं जिसका अर्थ ‘घुटना’ हैं और दूसरा शब्द ‘शीर्ष’…

Read more !