Utpreksha alankar – उत्प्रेक्षा अलंकार किसे कहते हैं उदाहरण सहित वर्णन

उत्प्रेक्षा अलंकार

उत्प्रेक्षा अलंकार की परिभाषा-Definition Of Utpreksha Alankar

जहां पर उपमेय में उपमान की संभावना अथवा कल्पना कर ली गई हो, वहां उत्प्रेक्षा अलंकार होता है। इसके बोधक शब्द है- मनो,मानो, मनु, मनहु, जानो, जनु, जन्हु, ज्यों आदि।
Or
जहां पर काव्य में उपमेय में उपमान की कल्पना की जाए वहां पर उत्प्रेक्षा अलंकार होता है।

उत्प्रेक्षा अलंकार के उदाहरण-

मानौ माई घन घन अंतर दामिनि।
घन दामिनि दामिनी घन अंतर,
सोभित हरि-ब्रज भामिनि।।

स्पष्टीकरण –
उपयुक्त काव्य पंक्तियों में रासलीला का सुंदर दृश्य दिखाया गया है। रास के समय पर गोपी को लगता था कि कृष्ण उसके पास नृत्य कर रहे हैं। गोरी गोपियां और श्याम वर्ण कृष्ण मंडला कर नाचते हुए ऐसे लगते हैं मानव बादल और बिजली, बिजली और बादल साथ-साथ शोभा यान हो रहे हो। यहां गोपीकाओं में बिजली की, और कृष्ण में बादल की संभावना की गई है। अतः यहां पर उत्प्रेक्षा अलंकार होगा।
सोहत ओढ़े पीत पट,
स्याम सलोने गात।
मनहुं नीलमनि सैल पर,
आतप परयौ प्रभात । । 

स्पष्टीकरण –
उपर्युक्त काव्य पंक्तियों में श्री कृष्ण के सुंदर श्याम शरीर में नीलमणि पर्वत की ओर उनके शरीर पर शोभायमान पीतांबर में प्रभात की धूप की मनोरम संभावना अथवा कल्पना की गई है। अतः यहां पर उत्प्रेक्षा अलंकार होगा।

उत्प्रेक्षा अलंकार के अन्य महत्वपूर्ण उदाहरण-

चमाचम चंचल नयन
विच घूँघट पट छीन।
मानहु सुर सरिता विमल,
जल उछरत जुग मीन। 

उस काल मारे क्रोध के
तन कांपने उसका लगा
मानो हवा के जोर से
सोता हुआ सागर जगा। 

कहती हुई यो उत्तरा के, नेत्र जल से भर गए।
हिम के कणों से पूर्ण मानो,हो गए पंकज नए। ।

मुख बाल रवि सम लाल होकर, ज्वाला सा वोधित हुआ। 

Related Posts

प्रश्नवाचक सर्वनाम – prashn vachak sarvanam

प्रश्नवाचक सर्वनाम – जिस सर्वनाम से किसी प्रश्न का बोध होता है उसे प्रश्नवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे- तुम कौन हो ? तुम्हें क्या चाहिए ? इन वाक्यों में कौन और क्या…

Read more !

वृद्धि संधि : परिभाषा एवं उदाहरण

वृद्धि संधि की परिभाषा जब संधि करते समय जब अ , आ के साथ ए , ऐ हो तो ‘ ऐ ‘ बनता है और जब अ , आ के…

Read more !

अर्थ के आधार पर वाक्य के भेद – Arth ke aadhar par vakya ke bhed

अर्थ के आधार पर वाक्य के भेद अर्थ के आधार पर 8 प्रकार के वाक्य होते हैं – विधान वाचक वाक्य निषेधवाचक वाक्य प्रश्नवाचक वाक्य विस्म्यादिवाचक वाक्य आज्ञावाचक वाक्य इच्छावाचक…

Read more !

संज्ञा और संज्ञा के भेद: Sangya ke Bhed – with example

Sangya ke Bhed: जातिवाचक, व्यक्तिवाचक और भाववाचक। अर्थात मूलतः संज्ञा के तीन भेद (प्रकार) होते हैं जातिवाचक संज्ञा, भाववाचक संज्ञा और व्यक्ति वाचक संज्ञा। परन्तु अंग्रेजी व्याकरण के प्रभाव के…

Read more !

यण संधि : परिभाषा एवं उदाहरण, Yan sandhi

यण संधि की परिभाषा जब संधि करते समय इ, ई के साथ कोई अन्य स्वर हो तो ‘ य ‘ बन जाता है, जब उ, ऊ के साथ कोई अन्य…

Read more !