वर्णों के उच्चारण स्थान – Varno ka uchcharan

परिभाषा

मुख के जिस भाग से जिस वर्ण का उच्चारण होता है उसे उस वर्ण का उच्चारण स्थान कहते हैं।

उच्चारण-स्थान

मुख के अंदर स्थान-स्थान पर हवा को दबाने से भिन्न-भिन्न वर्णों का उच्चारण होता है । मुख के अंदर पाँच विभाग हैं, जिनको स्थान कहते हैं । इन पाँच विभागों में से प्रत्येक विभाग में एक-एक स्वर उत्पन्न होता है, ये ही पाँच शुद्ध स्वर कहलाते हैं । स्वर उसको कहते हैं, जो एक ही आवाज में बहुत देर तक बोला जा सके ।

उच्चारण स्थान तालिका (List)

स्थान स्वर व्यंजन अन्तस्थ उष्म
1. कण्ठ अ, आ क, ख, ग, घ, ड़ ह, अ:
2. तालु इ, ई च, छ, ज, झ, ञ
3. मूर्द्धा ऋ, ॠ ट, ठ, ड, ढ, ण
4. दन्त लृ त, थ, द, ध, न
5. ओष्ठ उ, ऊ प, फ, ब, भ, म
6. नासिका अं, ड्, ञ, ण, न्, म्
7. कण्ठतालु ए, ऐ
8. कण्ठोष्टय ओ, औ
9. दन्तोष्ठ्य

Related Posts

Vachya in hindi – Vachya Aur Vachya ke Bhed – वाच्य

Definition of Voice वाच्य की परिभाषा 1-कर्ता, कर्म अथवा भाव के अनुसार क्रिया के लिंग, वचन तथा पुरुष का होना वाच्य (Vachya) कहलाता है। जैसे १-उमा खाती है। कर्ता उमा के…

Read more !

Raudra Ras (रौद्र रस) – Hindi Grammar

Raudra Ras (रौद्र रस) इसका स्थायी भाव क्रोध होता है जब किसी एक पक्ष या व्यक्ति द्वारा दुसरे पक्ष या दुसरे व्यक्ति का अपमान करने अथवा अपने गुरुजन आदि कि…

Read more !

Atishyokti Alankar – अतिशयोक्ति अलंकार, Hindi Grammar

अतिशयोक्ति अलंकार अतिशयोक्ति अलंकार की परिभाषा-Definition Of Atishyokti Alankar काव्य में जहां किसी योग्य व्यक्ति की योग्यता अर्थात सुंदरता, वीरता और उदारता को बढ़ा चढ़ाकर लोक सीमाओं का उल्लंघन करते…

Read more !

Ras – रस, Class 10 Hindi Grammar, Notes, Example, कक्षा 10 हिंदी Grammar – रस

Ras Definition – रस का अर्थ  रस का शाब्दिक अर्थ है ‘आनन्द’। काव्य को पढ़ने या सुनने से जिस आनन्द की अनुभूति होती है, उसे ‘रस’ कहा जाता है।रस का…

Read more !

वाक्य के भेद – Vakyo ke bhed in hindi with example

कर्ता और क्रिया के आधार पर वाक्य के भेद कर्ता और क्रिया के आधार पर वाक्य के दो भेद होते हैं- उद्देश्य  विधेय जिसके बारे में बात की जाय उसे उद्देश्य कहते हैं…

Read more !