व्यंजन के भेद – Vyanjan ke Bhed or Prakar

हिन्दी वर्णमाला में व्यंजन के तीन भेद होते हैं स्पर्श, अंतःस्थ और ऊष्म। व्यंजन के तीनों भेद का विवरण नीचे दिया गया है।

व्यंजन निम्नलिखित तीन भेद हैं

  1. स्पर्श
  2. अंतःस्थ
  3. ऊष्म

स्पर्श

इन्हें पाँच वर्गों में रखा गया है और हर वर्ग में पाँच-पाँच व्यंजन हैं। हर वर्ग का नाम पहले वर्ग के अनुसार रखा गया है जैसे:

  1. कवर्ग- क् ख् ग् घ् ड़् 
  2. चवर्ग- च् छ् ज् झ् ञ् 
  3. टवर्ग- ट् ठ् ड् ढ् ण् (ड़् ढ्) 
  4. तवर्ग- त् थ् द् ध् न् 
  5. पवर्ग- प् फ् ब् भ् म् 

अंतःस्थ

  • अन्तस्थ निम्न चार हैं: य् र् ल् व् 

ऊष्म

  • ऊष्म व्यंजन निम्न चार हैं- श् ष् स् ह् 
vyanjan ke bhed or prakar

Related Posts

यण संधि : परिभाषा एवं उदाहरण, Yan sandhi

यण संधि की परिभाषा जब संधि करते समय इ, ई के साथ कोई अन्य स्वर हो तो ‘ य ‘ बन जाता है, जब उ, ऊ के साथ कोई अन्य…

Read more !

Vibhats Ras (वीभत्स रस) – Hindi Grammar

Vibhats Ras (वीभत्स रस) इसका स्थायी भाव जुगुप्सा होता है घृणित वस्तुओं, घृणित चीजो या घृणित व्यक्ति को देखकर या उनके संबंध में विचार करके या उनके सम्बन्ध में सुनकर…

Read more !

Anupras alankar, अनुप्रास अलंकार की परिभाषा, भेद,उदाहरण सहित

अनुप्रास अलंकार जिस रचना में व्यंजनों की बार-बार आवृत्ति के कारण चमत्कार उत्पन्न होता है वहां पर अनुप्रास अलंकार होता है।  अनुप्रास अलंकार की परिभाषा-Definition Of Anupras Alankar जिस रचना…

Read more !

Samas (समास)- Samas in Hindi – Samas Ke Bhed, Udaharan

Samas Samas (समास): अनेक शब्दों को संक्षिप्त करके नए शब्द बनाने की प्रक्रिया समास कहलाती है। दूसरे अर्थ में- कम-से-कम शब्दों में अधिक-से-अधिक अर्थ प्रकट करना ‘समास’ कहलाता है। or दो…

Read more !

संज्ञा की परिभाषा हिन्दी में !

परिभाषा किसी व्यक्ति, वास्तु , स्थान या भाव के नाम को संज्ञा कहते है। जैसे- राम, लड़का, गाड़ी, सुंदरता, दिल्ली, आदि। Nouns it’s a name given to animal place and…

Read more !