यण संधि : परिभाषा एवं उदाहरण, Yan sandhi

यण संधि की परिभाषा

जब संधि करते समय इ, ई के साथ कोई अन्य स्वर हो तो ‘ य ‘ बन जाता है, जब उ, ऊ के साथ कोई अन्य स्वर हो तो ‘ व् ‘ बन जाता है , जब ऋ के साथ कोई अन्य स्वर हो तो ‘ र ‘ बन जाता है।

यण संधि के उदाहरण

  • अधि + आय : अध्याय (इ + आ = या)

जैसा कि आप ऊपर दिए गए उदाहरण में देख सकते हैं एवं वह दो स्वर हैं जिनसे मुख्यतः संधि करने पर शब्दों में परिवर्तन आ रहा है। जब शब्दों कि संधि हो रही है तो ये दोनों स्वर मिलकर या बना देते हैं। अधि और आय का अध्याय बन जाता है। अतः यह उदाहरण यण संधि के अंतर्गत आएगा।

  • अनु + एषण : अन्वेषण (उ + ए = व्)

जैसा कि आप ऊपर दिए गए उदाहरण में देख सकते हैं एवं वह दो स्वर हैं जिनसे मुख्यतः संधि करने पर शब्दों में परिवर्तन आ रहा है। जब शब्दों कि संधि हो रही है तो ये दोनों स्वर मिलकर बना देते हैं। अनु और एषण का अन्वेषण बन जाता है। अतः यह उदाहरण यण संधि के अंतर्गत आएगा।

  • अधि + अयन : अध्ययन (इ + अ = य)

जैसा कि आप ऊपर दिए गए उदाहरण में देख सकते हैं एवं वह दो स्वर हैं जिनसे मुख्यतः संधि करने पर शब्दों में परिवर्तन आ रहा है। जब शब्दों कि संधि हो रही है तो ये दोनों स्वर मिलकर बना देते हैं। अधि और अयन का अध्ययन बन जाता है। अतः यह उदाहरण यण संधि के अंतर्गत आएगा।

  • अनु + इत : अन्वित (उ + इ = वि)

जैसा कि आप ऊपर दिए गए उदाहरण में देख सकते हैं एवं वह दो स्वर हैं जिनसे मुख्यतः संधि करने पर शब्दों में परिवर्तन आ रहा है। जब शब्दों कि संधि हो रही है तो ये दोनों स्वर मिलकर वि बना देते हैं। अनु और इत का अन्वित बन जाता है। अतः यह उदाहरण यण संधि के अंतर्गत आएगा।

  • इति + आदि : इत्यादि (इ + आ = या )

जैसा कि आप ऊपर दिए गए उदाहरण में देख सकते हैं एवं वह दो स्वर हैं जिनसे मुख्यतः संधि करने पर शब्दों में परिवर्तन आ रहा है। जब शब्दों कि संधि हो रही है तो ये दोनों स्वर मिलकर या बना देते हैं। इति और आदि का इत्यादि बन जाता है। अतः यह उदाहरण यण संधि के अंतर्गत आएगा।

  • प्रति + एक : प्रत्येक (इ + ए = ये)

जैसा कि आप ऊपर दिए गए उदाहरण में देख सकते हैं एवं वह दो स्वर हैं जिनसे मुख्यतः संधि करने पर शब्दों में परिवर्तन आ रहा है। जब शब्दों कि संधि हो रही है तो ये दोनों स्वर मिलकर ये बना देते हैं। प्रति और एक का प्रत्येक बन जाता है। अतः यह उदाहरण यण संधि के अंतर्गत आएगा।

  • अति + आवश्यक : अत्यावश्यक (इ + आ = या)

जैसा कि आप ऊपर दिए गए उदाहरण में देख सकते हैं एवं वह दो स्वर हैं जिनसे मुख्यतः संधि करने पर शब्दों में परिवर्तन आ रहा है। जब शब्दों कि संधि हो रही है तो ये दोनों स्वर मिलकर या बना देते हैं। अति और आवश्यक का अत्यावश्यक बन जाता है। अतः यह उदाहरण यण संधि के अंतर्गत आएगा।

यण संधि के कुछ अन्य उदाहरण :

  • अति + अधिक : अत्यधिक (इ + अ = य)
  • प्रति + अक्ष : प्रत्यक्ष (इ + अ = य)
  • प्रति + आघात : प्रत्याघात (इ + आ = या)
  • अति + अंत : अत्यंत (इ + अ = य)
Yan Sandhi

देखे हिन्दी की अन्य संधि

  1. स्वर संधि
  2. दीर्घ संधि
  3. गुण संधि
  4. वृद्धि संधि
  5. यण संधि
  6. अयादि संधि
  7. व्यंजन संधि
  8. विसर्ग संधि

Related Posts

Swar Sandhi in hindi – स्वर संधि किसे कहते हैं,उदाहरण

Definition Of Swar Sandhi स्वर संधि की परिभाषा दो स्वरों के मेल से जो विकार उत्पन्न होता है उसे स्वर संधि कहते हैं स्वर संधि मुख्यतः पांच प्रकार के होते…

Read more !

संवृत और विवृत स्वर – Samvrit और Vivrat Swar

संवृत और विवृत स्वर संवृत स्वर: संवृत स्वर या ऊँचा स्वर ऐसी स्वर ध्वनि होती है जिसमें, बिना व्यंजन की ध्वनि बनाए, जिह्वा को मुँह में जितना सम्भव हो सके…

Read more !

Yamak alankar यमक अलंकार किसे कहते हैं, यमक अलंकार की परिभाषा और उदाहरण

यमक अलंकार यमक अलंकार की परिभाषा-Definition Of Yamak Alankar जब कविता में एक ही शब्द दो या दो से अधिक बार आए और उसका अर्थ हर बार भिन्न-भिन्न हो वहां…

Read more !

Slesh alankar – श्लेष अलंकार, Hindi Grammar

श्लेष अलंकार Definition Of Slesh Alankar: “श्लेष” का अर्थ है-“चिपकना” । जहां एक शब्द एक ही बार प्रयुक्त होने पर दो अर्थ दे वहां श्लेष अलंकार होता है। अर्थात जहां…

Read more !

संज्ञा और संज्ञा के भेद: Sangya ke Bhed – with example

Sangya ke Bhed: जातिवाचक, व्यक्तिवाचक और भाववाचक। अर्थात मूलतः संज्ञा के तीन भेद (प्रकार) होते हैं जातिवाचक संज्ञा, भाववाचक संज्ञा और व्यक्ति वाचक संज्ञा। परन्तु अंग्रेजी व्याकरण के प्रभाव के…

Read more !