IRDA क्या हैं और इसके क्या कार्य हैं – IRDA and Its Functions in Hindi

बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण Insurance Regulatory and Development Authority (IRDA)

बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (आईआरडीए) भारत सरकार द्वारा संचालित एक सर्वोच्च राष्ट्रीय एजेंसी है । यह पॉलिसीधारकों के हितों की सुरक्षा करता है,जो भारत में बीमा व्यवसाय को नियंत्रित और विकसित करता है। आईआरडीए हैदराबाद में स्थित है और भारतीय संसद के एक अधिनियम द्वारा 1999 में आईआरडीए अधिनियम के रूप में भारत सरकार द्वारा गठित किया था। भारतीय बीमा उद्योग की कुछ आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए, आईआरडीए 2002 में संशोधन किया गया था। जैसा कि

  • पॉलिसीधारकों के हितों की रक्षा, विनियमित करने,
  • पॉलिसीधारकों के आर्थिक और वित्तीय सुधारों बढ़ावा देने,
  • बीमा उद्योग की सुधारात्मक वृद्धि सुनिश्चित करने,
  • पॉलिसीधारकों के वास्तविक दावों के शीघ्र निपटान सुनिश्चित करना और दावों के निपटान की प्रक्रिया में गलत व्यवहार रोकना।
  • भारतीय बीमा उद्योग को आईआरडीए के नियम और शर्तों के द्वारा चलाया जाता है। भारतीय उद्योग में बीमा कंपनियों की गुणवत्ता योग्यता और निष्पक्ष व्यवहार की निगरानी और कार्यान्वयन पर आईआरडीए द्वारा ध्यान रखा जाता है।

आईआरडीएआई के कर्तव्यों, शक्तियों और कार्यों को शामिल किया गया हैये निम्नानुसार हैं:

  • 1 आईआरडीए द्वारा बीमा कारोबार और पुन: बीमा व्यवसाय की नियमित वृद्धि को बढ़ावा और सुनिश्चित करना।
  • 2 बीमा एजेंटों के लिए अपेक्षित योग्यता, आचार संहिता और व्यावहारिक प्रशिक्षण निर्दिष्ट करना।
  • 3 बीमा कंपनियों और बीमा मध्यस्थों के बीच विवादों का निर्णय, और टैरिफ सलाहकार समिति के कामकाज की निगरानी करना।
  • 4 आईआरडीएआई जीवन बीमा कंपनी को पंजीकरण का प्रमाण पत्र प्रदान।
  • 5 आईआरडीएआई बीमा एजेंटों को पंजीकरण का प्रमाण पत्र प्रदान, पंजीकरण के इस प्रमाण पत्र के नवीकरण, पुन: नवीकरण संशोधन, निकासी, निलंबन या रद्द करने का एक प्रमाण पत्र
  • प्रदान करने के लिए जिम्मेदार है।
  • 6 आईआरडीएआई अधिनियम के प्रयोजनों को पूरा करने के लिए बीमा कंपनियों और बीमा एजेंटों से फीस और अन्य शुल्क लेता है।
  • 7 आईआरडीएआई बीमा कंपनियों द्वारा धन के निवेश को विनियमित करता और धन क्षमता के मार्जिन के रखरखाव को नियंत्रित करता है।
  • 8 आईआरडीएआई बीमा कंपनियों और बीमा मध्यस्थों के बीच विवादों का निपटान करता है।
  • 9 आईआरडीएआई बीमा कंपनियों, बीमा एजेंटों, बीमा मध्यस्थों और जीवन बीमा के व्यवसाय से जुड़े अन्य संगठनों के ऑडिटिंग सहित, जांच, आचरण की जांच कर सकता है।
  • 10 आईआरडीएआई बीमा योजनाओं को वित्त करने के लिए बीमाकर्ता की प्रीमियम आय का प्रतिशत निर्दिष्ट करता है।
  • 11 यह पॉलिसीधारकों को बीमा कंपनियों के खिलाफ उनकी शिकायत सुनने का अधिकार प्रदान करता है।
  • 12 आईआरडीएआई बीमा मध्यस्थों के लिए लाइसेंस और स्थापित मानदंड और ग्राहकों को सही वित्तीय समाधान प्रदान करने में सक्षम हैं।
  • 13 आईआरडीएआई द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों और समाज के कमजोर वर्गों में बीमा कवरेज सुनिश्चित करना:

आईआरडीए भारत में निजी बीमा कंपनियों को विनियमित करती है जैसे कि;

  1. स्टार स्वास्थ्य बीमा
  2. भारतीय जीवन बीमा निगम
  3. रेलिगेयर स्वास्थ्य बीमा
  4. निर्यात क्रेडिट गारंटी निगम लिमिटेड
  5. श्रीराम जनरल इंश्योरेंस कंपनी लेफ्टिनेंट
  6. फ्यूचर जनरली इंडिया इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड
  7. एचडीएफसी-चब जनरल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड
  8. रिलायंस जनरल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड।
  9. बजाज आलियांज जनरल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड
  10. टाटा एआईजी जनरल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड
  11. इफको टोकियो जनरल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड
  12. अपोलो म्यूनिख बीमा कंपनी लिमिटेड
  13. चोलमंडलम जनरल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड
  14. भारती एक्सा जनरल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड
  15. रहेजा क्यूबीई जनरल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड
  16. आईसीआईसीआई लोम्बार्ड जनरल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड।

IRDA का full form क्या होता है?

Insurance Regulatory and Development Authority (बीमा विकास एवं विकास प्राधिकरण)

IRDA का कार्यक्षेत्र क्या है?

यह संस्था भारतीय बीमा उद्योग और बीमा से संबन्धित सभी प्रोडक्टस को नियंत्रित करती है, इस क्षेत्र मे जब भी कोई विवाद उत्पन्न होता है या किसी बीमा नियमावली कानून का उलंघन होता है तो तुरंत IRDA उस मामले मेन हस्तक्षेप कर के मामले को सुलझाती है। IRDA द्वारा दी गयी सूचनाओं का पालन ना करने पर किसी भी बीमा कंपनी पर आर्थिक जुर्माना अथवा बीमा व्यापार प्रतिबंध लग सकता है।

Related Posts

How To Make a Health Insurance Claim – स्वास्थ्य बीमा का दावा कैसे करें

स्वास्थ्य बीमा के लिए दावा कैसे करें? How to make a claim for health insurance? जब भी आप या आपके किसी भी परिवार के सदस्यों या आश्रितों को बीमारी, बीमारी या दुर्घटना…

Read more !

Insurance Agent को कितना कमीशन मिलता हैं?

Insurance Company के Agent को कितना कमीशन मिलता है कोई भी व्यक्ति अपने करियर में LIC का Agent बनकर अपने जीवन को सवार सकता है क्योकि LIC का Agent एक अधिकारिक बीमा…

Read more !

What is Insurance – History, Social Effect, Effect On Economy

Insurance Insurance is a means of avoiding financial loss. It is a form of risk management, mainly used to hedge against the risk of a accidental or indefinite loss. The…

Read more !

स्वास्थ्य बीमा कितने प्रकार के होते है? Types of Health Insurance in Hindi

भारत में मुख्यतः तीन प्रकार के हैल्थ इन्शुरेंस पाये जाते हैं। health insurance को दूसरे शब्द में Medical Insurance भी कहा जाता है। 1 Hospitalization plans – इस प्रकार की…

Read more !

एलआईसी एजेंट कैसे बनें – How to become LIC Agent (Hindi Information)?

आजकल समय बदल रहा है. और लोग परम्परागत कार्यों को छोडकर कुछ नया और स्वतंत्र रहकर करना चाहते है. इसी को ध्यान में रखकर लोग बीमा कम्पनियों में अभिकर्ता (Agent)…

Read more !