बद्ध पद्मासन – बद्ध पद्मासन करने का तरीका और फायदे, Baddha Padmasana in Hindi

Baddha Padmasana in Hindi

बद्ध पद्मासन

बद्ध पद्मासन को अंग्रेजी भाषा में Locked Lotus Pose और Closed Lotus Pose भी कहा जाता है। बद्ध पद्मासन दो शब्दों से मिलकर बना है बद्ध और पद्म। जिसमे बद्ध का अर्थ होता है बांधा हुआ और पद्म का अर्थ होता है कमल का फूल।

बद्ध पद्मासन करने का तरीका

  1. दंडासन में बैठ जायें। हल्का सा हाथों से ज़मीन को दबाते हुए, और साँस अंदर लेते हुए रीढ़ की हड्डी को लंबा करें।
  2. श्वास अंदर लें और अपनी दाईं टाँग को उठा कर दायें पैर को बाईं जाँघ पे ले आयें। और फिर दूसरे पैर के साथ भी ऐसा करें। अब आप पद्मासन में हैं। इस मुद्रा में आपके दायें कूल्हे और घुटने पर खिचाव आएगा।
  3. अब आपना बायाँ हाथ पीठ के पीछे से आगे की ओर ले आयें और बाए हाथ से बाए पैर का अंगूठा पकड़ लें। यह करने के बाद इस मुद्रा में एक से दो बार साँस अंदर और बाहर लें।
  4. और फिर यह क्रिया दायें हाथ से भी दौहरायें।
  5. अब आप बद्ध पद्मासन की मुद्रा में हैं।
  6. कुल मिला कर पाँच बार साँस अंदर लें और बाहर छोड़ें ताकि आप आसन में 30 से 60 सेकेंड तक रह सकें। धीरे धीरे जैसे आपके शरीर में ताक़त और लचीलापन बढ़ने लगे, आप समय बढ़ा सकते हैं — 90 सेकेंड से ज़्यादा ना करें।
  7. पाँच बार साँस लेने के बाद आप इस मुद्रा से बाहर आ सकते हैं।

बद्ध पद्मासन के लाभ

  1. बद्ध पद्मासन घुटनों और कूल्हों के जोड़ों का लचीलापन बढ़ाता है।
  2. कंधों, कलाईयों, पीठ, कोहनियों, घुटनों, और टख़नों में खिचाव लाता है और उन्हे मज़बूत बनाता है।
  3. यह पीठ की मांसपेशियों में खिचाव लाता है और रीढ़ की नसों में रक्त परिसंचरण बढ़ाता है।
  4. यह पाचन अंगों को उत्तेजित करता है और कब्ज से राहत दिलाता है।
  5. बद्ध पद्मासन का दैनिक अभ्यास गठिया में फायदेमंद है।

बद्ध पद्मासन करने में सावधानी

  1. जिनके घुटनों में दर्द हो, उन्हे भी बद्ध पद्मासन नहीं करना चाहिए।
  2. अगर आपकी हॅम्स्ट्रिंग में चोट हो, तो बद्ध पद्मासन ना करें।
  3. कंधों में चोट या दर्द हो तो यह आसन ना करें।
  4. अपनी शारीरिक क्षमता से अधिक जोर न लगायें।

योग क्‍या है, योग कैसे किया जाता है, योग कैसे काम करता है, विभिन्‍न बीमारियों को दूर करने के लिए योग कैसे करें, योग के क्‍या फायदे हैं, मोटापा दूर करने के लिए योग और योग के अन्‍य फायदों के बारे में अधिक जानकारी के लिए पूरा लेख पढ़ें- योग के प्रमुख आसन और उनके लाभ, Yoga Asanas in Hindi

Related Posts

शीर्षासन – करने का तरीका और फायदे, Sirsasana in Hindi

शीर्षासन (Sirsasana) शीर्षासन का नाम शीर्ष शब्द पर रखा गया है, जिसका मतलब होता है सिर। शीर्षासन को सभ आसनों का राजा माना जाता है। इसे करना शुरुआत में कठिन…

Read more !

मत्स्यासन – मत्स्यासन योग क्रिया की विधि, लाभ और फायदे, Matsyasana in Hindi

मत्स्यासन (Matsyasana) मत्स्य का अर्थ होता है मछली, इस आसन के दौरान शरीर का आकार मछली जैसा बनता है, इसलिए इस आसान को मत्स्यासन नाम दिया गया है। अंग्रेजी में…

Read more !

उष्ट्रासन – करने का तरीका और फायदे, Ustrasana in Hindi

उष्ट्रासन (Ustrasana in Hindi) ‘उष्ट्र’ एक संस्कृत भाषा का शब्द है और इसका अर्थ ‘ऊंट’ होता है। उष्ट्रासन को अंग्रेजी में ‘Camel Pose’ कहा जाता है। उष्ट्रासन एक मध्यवर्ती पीछे…

Read more !

त्रिकोणासन – फायदे और करने का तरीका, Trikonasana in Hindi

त्रिकोणासन (Trikonasana) त्रिकोणासन संस्कृत के दो शब्दों ‘त्रिकोण’ और ‘आसन’ से मिलकर बना है। इसका मतलब त्रिकोण होता है। त्रिकोणासन स्वास्थ्य के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है, और इस आसने…

Read more !

भुजंगासन – भुजंगासन योग की विधि, लाभ और सावधानियाँ, Bhujangasana in Hindi

भुजंगासन अंग्रेजी में इसे Cobra Pose कहा जाता है। भुजंगासन फन उठाए हुएँ साँप की भाँति प्रतीत होता है, इसलिए इस आसन का नाम भुजंगासन है। भुजंगासन सूर्यनमस्कार और पद्मसाधना…

Read more !