उष्ट्रासन – करने का तरीका और फायदे, Ustrasana in Hindi

Ustrasana:

उष्ट्रासन (Ustrasana in Hindi)

‘उष्ट्र’ एक संस्कृत भाषा का शब्द है और इसका अर्थ ‘ऊंट’ होता है। उष्ट्रासन को अंग्रेजी में ‘Camel Pose’ कहा जाता है। उष्ट्रासन एक मध्यवर्ती पीछे झुकने-योग आसन है जो अनाहत (ह्रदय चक्र) को खोलता है। इस आसन से शरीर में लचीलापन आता है, शरीर को ताकत मिलती है तथा पाचन शक्ति बढ़ जाती है। उष्ट्रासन करने की प्रक्रिया और उष्ट्रासन के लाभ नीचे दिए गए हैं :

उष्ट्रासन करने की प्रक्रिया

  1. अपने योग मैट पर घुटने के सहारे बैठ जाएं और कुल्हे पर दोनों हाथों को रखें।
  2. घुटने कंधो के समानांतर हो तथा पैरों के तलवे आकाश की तरफ हो।
  3. सांस लेते हुए मेरुदंड को पुरोनितम्ब की ओर खींचे जैसे कि नाभि से खींचा जा रहा है।
  4. गर्दन पर बिना दबाव डालें तटस्थ बैठे रहें
  5. इसी स्थिति में कुछ सांसे लेते रहे।
  6. सांस छोड़ते हुए अपने प्रारंभिक स्थिति में आ जाएं।
  7. हाथों को वापस अपनी कमर पर लाएं और सीधे हो जाएं।
  8. शुरूआत में यह आसन किस प्रकार करें
  9. अपनी सुविधा के लिए आप अपने घुटनों के नीचे तकिए का प्रयोग कर सकते हैं।

उष्ट्रासन के लाभ

  1. पाचन शक्ति बढ़ता है।
  2. सीने को खोलता है और उसको मज़बूत बनाता है।
  3. पीठ और कंधों को मजबूती देता है।
  4. पीठ के निचले हिस्से में दर्द से छुटकारा दिलाता है।
  5. रीढ़ की हड्डी में लचीलेपन एवं मुद्रा में सुधार भी लाता है।
  6. मासिक धर्म की परेशानी से राहत देता है।

योग क्‍या है, योग कैसे किया जाता है, योग कैसे काम करता है, विभिन्‍न बीमारियों को दूर करने के लिए योग कैसे करें, योग के क्‍या फायदे हैं, मोटापा दूर करने के लिए योग और योग के अन्‍य फायदों के बारे में अधिक जानकारी के लिए पूरा लेख पढ़ें- योग के प्रमुख आसन और उनके लाभ, Yoga Asanas in Hindi

Related Posts

कर्नापीड़ासन – कर्नापीड़ासन करने का तरीका और फायदे, Karnapidasana in Hindi

कर्नापीड़ासन (Karnapidasana) कर्णपीड़ासन को इयर प्रेशर पोज़ और नी टु इयर पोज़ भी कहा जाता है। कर्णपीड़ासन को कान के दबाव की मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है।…

Read more !

बद्ध पद्मासन – बद्ध पद्मासन करने का तरीका और फायदे, Baddha Padmasana in Hindi

बद्ध पद्मासन बद्ध पद्मासन को अंग्रेजी भाषा में Locked Lotus Pose और Closed Lotus Pose भी कहा जाता है। बद्ध पद्मासन दो शब्दों से मिलकर बना है बद्ध और पद्म।…

Read more !

मत्स्यासन – मत्स्यासन योग क्रिया की विधि, लाभ और फायदे, Matsyasana in Hindi

मत्स्यासन (Matsyasana) मत्स्य का अर्थ होता है मछली, इस आसन के दौरान शरीर का आकार मछली जैसा बनता है, इसलिए इस आसान को मत्स्यासन नाम दिया गया है। अंग्रेजी में…

Read more !

गोमुखासन – गोमुखासन करने का तरीका, फायदे और सावधानी – Gomukhasana in Hindi

गोमुखासन संस्कृत में ‘गोमुख’ का अर्थ होता है ‘गाय का चेहरा’ या गाय का मुख़। इस आसन में पांव की स्थिति बहुत हद तक गोमुख की आकृति जैसे होती है।…

Read more !

प्राणायाम – प्राणायाम क्या है और इसके प्रकार, Pranayam in Hindi

प्राणायाम क्या है? प्राण वह शक्ति है जो हमारे शरीर को ज़िंदा रखती है और हमारे मन को शक्ति देती है। तो ‘प्राण’ से हमारी जीवन शक्ति का उल्लेख होता…

Read more !