अनुस्वार और अनुनासिक – Anushwar और Anunasik

अनुस्वार और अनुनासिक

बिंदु या चंद्रबिंदु को हिंदी में अनुस्वार और अनुनासिक कहा जाता है। अनुस्वार स्वर के बाद आने वाला व्यंजन है। इसकी ध्वनि नाक से निकलती है। अनुनासिक स्वरों के उच्चारण में मुँह से अधिक तथा नाक से बहुत कम साँस निकलती है। इन स्वरों पर चन्द्रबिन्दु (ँ) का प्रयोग होता है जो की शिरोरेखा के ऊपर लगता है।

1. अनुस्वार 

इसका प्रयोग पंचम वर्ण के स्थान पर होता है। इसका चिन्ह (ं) है। जैसे- सम्भव=संभव, सञ्जय=संजय, गड़्गा=गंगा।

पंचम वर्णों के स्थान पर

अनुस्वार (ं) का प्रयोग पंचम वर्ण ( ङ्, ञ़्, ण्, न्, म् – ये पंचमाक्षर कहलाते हैं) के स्थान पर किया जाता है।

उदाहरण:

  • गड्.गा – गंगा
  • चञ़्चल – चंचल
  • झण्डा – झंडा
  • गन्दा – गंदा

अनुस्वार के चिह्न के प्रयोग के बाद आने वाला वर्ण ‘क’ वर्ग, ’च’ वर्ग, ‘ट’ वर्ग, ‘त’ वर्ग और ‘प’ वर्ग में से जिस वर्ग से संबंधित होता है अनुस्वार उसी वर्ग के पंचम-वर्ण के लिए प्रयुक्त होता है।

2. अनुनासिक

जब किसी स्वर का उच्चारण नासिका और मुख दोनों से किया जाता है तब उसके ऊपर चंद्रबिंदु (ँ) लगा दिया जाता है। यह अनुनासिक कहलाता है। जैसे-हँसना, आँख।
हिन्दी वर्णमाला में 11 स्वर तथा 33 व्यंजन गिनाए जाते हैं, परन्तु इनमें ड़्, ढ़् अं तथा अः जोड़ने पर हिन्दी के वर्णों की कुल संख्या 48 हो जाती है।

अनुनासिक के स्थान पर बिंदु का प्रयोग

जब शिरोरेखा के ऊपर स्वर की मात्रा लगी हो तब सुविधा के लिए चन्द्रबिन्दु (ँ) के स्थान पर बिंदु (ं) का प्रयोग करते हैं। जैसे – मैं, बिंदु, गोंद आदि।

अनुस्वार और अनुनासिक उदाहरण

बूँद,  आँखें , हंस ,  हँसना , फंसा , फांस , अंगद, अंतर , अंश , रंजिश , लंका , मंजन , बंदर , अँगूर , लँगूर , मंजूर , गुँजन , गूँज , पूँजी , पूँजीवाद , पूंजीपति, मूँज , चंदन , अंजलि , मुंदरी , चंद्रिका , चाँद , चांदनी , चंद्रमा , चंचल , चंपक , खंजर , मंजरी , टांग , टंकी , टंगा , ताँगा , लंबा , लंबाई , ऊँचाई , ऊँचा , ऊँची , ऊँट , अँगुली , अँगूठी , अँगरेज़ , रंगरेज़ , रंगाई , कंगन , कंगारू , घंटा , शँख ।

Anushwar और Anunasik

Related Posts

Anyokti alankar – अन्योक्ति अलंकार, Hindi Grammar

अन्योक्ति अलंकार अन्योक्ति अलंकार की परिभाषा- जहां अप्रस्तुत के द्वारा प्रस्तुत का व्यंग्यात्मक कथन किया जाए, वहां अन्योक्ति अलंकार होता है। अन्योक्ति अलंकार के उदाहरण- 1. नहिं पराग नहिं मधुर…

Read more !

Hindi Ki Matra – हिंदी मात्राएँ

मात्राएँ- Hindi Ki Matraye स्वरों के बदले हुए स्वरूप को मात्रा कहते हैं स्वरों की मात्राएँ निम्नलिखित हैं: स्वर मात्राएँ शब्द अ × कम  आ ा काम  इ ि किसलये …

Read more !

वर्णों के उच्चारण स्थान – Varno ka uchcharan

परिभाषा मुख के जिस भाग से जिस वर्ण का उच्चारण होता है उसे उस वर्ण का उच्चारण स्थान कहते हैं। उच्चारण-स्थान मुख के अंदर स्थान-स्थान पर हवा को दबाने से…

Read more !

निश्चयवाचक (संकेतवाचक) सर्वनाम – nishchay vachak sarvanam

निश्चयवाचक (संकेतवाचक) सर्वनाम – जो सर्वनाम निकट या दूर की किसी वस्तु की ओर संकेत करे, उसे निश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे- यह लड़की है। वह पुस्तक है। ये हिरन…

Read more !

Sarvanam ke udaharan / example

सर्वनाम दो शब्दों के योग से बना है सर्व + नाम , अर्थात जो नाम सब के स्थान पर प्रयुक्त हो उसे सर्वनाम कहा जाता है। कुछ उदाहरण से समझिये – मोहन…

Read more !