हिन्दी वर्णमाला में कुल कितने वर्ण होते हैं? हिंदी वर्णमाला

Hindi me varno Ki Sankhya

वर्ण

वर्ण (वर्णमाला): वर्णों के समुदाय को ही वर्णमाला कहते हैं। हिन्दी वर्णमाला में 44 वर्ण हैं। उच्चारण और प्रयोग के आधार पर हिन्दी वर्णमाला के दो भेद किए गए हैं:

  • स्वर
  • व्यंजन

हिंदी में स्वर

  • जिन वर्णों का उच्चारण स्वतंत्र रूप से होता हो और जो व्यंजनों के उच्चारण में सहायक हों वे स्वर कहलाते है।
  • स्वर संख्या में कुल तेरह हैं: अ, इ, उ, ऋ, लृ , आ, ई, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ

व्यंजन

जिन वर्णों के पूर्ण उच्चारण के लिए स्वरों की सहायता ली जाती है वे व्यंजन कहलाते हैं। अर्थात व्यंजन बिना स्वरों की सहायता के बोले ही नहीं जा सकते। 
  • व्यंजन संख्या में 33 हैं। 
व्यंजनों का अपना स्वरूप निम्नलिखित हैं:
  • क् च् छ् ज् झ् त् थ् ध् आदि।
अ लगने पर व्यंजनों के नीचे का (हल) चिह्न हट जाता है। तब ये इस प्रकार लिखे जाते हैं:
  • क च छ ज झ त थ ध आदि।

Related Posts

अलंकार – Alankar In Hindi, Grammar

अलंकार और उसके भेद परिभाषा सहित अलंकार का शाब्दिक अर्थ जिस प्रकार स्त्रियाँ स्वयं को सजाने के लिए आभूषणों का उपयोग करती हैं, उसी प्रकार कवि या लेखक भाषा को…

Read more !

Vyanjan Sandhi in hindi – व्यंजन संधि परिभाषा, उदाहरण, भेद

Vyanjan sandhi in hindi व्यंजन संधि की परिभाषा-Definition of Vyanjan Sandhi व्यंजन के बाद यदि किसी स्वर या व्यंजन के आने से उस व्यंजन में जो विकार / परिवर्तन उत्पन्न…

Read more !

Bhayanak Ras (भयानक रस) – Hindi Grammar

Bhayanak Ras (भयानक रस) इसका स्थायी भाव भय होता है जब किसी भयानक या अनिष्टकारी व्यक्ति या वस्तु को देखने या उससे सम्बंधित वर्णन करने या किसी अनिष्टकारी घटना का…

Read more !

Sarvanam ke udaharan / example

सर्वनाम दो शब्दों के योग से बना है सर्व + नाम , अर्थात जो नाम सब के स्थान पर प्रयुक्त हो उसे सर्वनाम कहा जाता है। कुछ उदाहरण से समझिये – मोहन…

Read more !

KARUN RAS -करुण रस – Hindi Grammar

Karun Ras -करुण रस इसका स्थायी भाव शोक होता है इस रस में किसी अपने का विनाश या अपने का वियोग, द्रव्यनाश एवं प्रेमी से सदैव विछुड़ जाने या दूर…

Read more !