बंगाल के गवर्नर-Governor of Bengal

भारत में अंग्रेजी शासन की स्थापना सर्वप्रथम बंगाल में हुई। प्लासी के युद्ध के समय बंगाल में अंग्रेजों का प्रमुख ड्रेक था। प्लासी युद्ध की सफलता में राबर्ट क्लाइव की महत्वपूर्ण एवं निर्णायक भूमिका थी। इसलिए बंगाल विजय के बाद क्लाइव को बंगाल का प्रथम गवर्नर बनाया गया।

बंगाल के गवर्नर और उनका कार्यकाल

1-रॉबर्ट क्लाइव (1757-60)

2-हॉलवेल (1760)

3-हेनरी वेंसिटार्ट (1760-65)

रॉबर्ट क्लाइव [दूसरी बार] (1765-67)

4-हैरी वेरेलस्ट (1767-69)

5-जॉन कर्टियर (1769-72)

6-वारेन हेस्टिंग्स (1772-1773)- इससे आगे का कार्यकाल बंगाल के गवर्नर जनरल के रूप व्यतीत किया।

बंगाल का प्रथम गवर्नर रॉबर्ट क्लाइव

रॉबर्ट क्लाइव का जन्म 1725 ई. में इंग्लैंड के एक साधारण परिवार में हुआ था। 1742 ई. में क्लाइव ईस्ट इंडिया कम्पनी के अंतर्गत एक साधारण क्लर्क के रूप में नियुक्त हुआ। अपनी मेहनत और कार्यकुशलता के दम पर बंगाल के गवर्नर के पद तक पहुँचा और भारत में ब्रिटिश साम्राज्य का संस्थापक बना।

 

जब क्लाइव दूसरी बार बंगाल का गवर्नर बनकर अप्रैल 1765 में आया तो उसने मुगल सम्राट शाहआलम और अवध के नवाब वज़ीर शुजाउद्दौला से ‘इलाहाबाद की सन्धि’ की। शाहआलम से कम्पनी को बिहार, बंगाल और उड़ीसा की दीवानी की प्राप्ति की। इन क्षेत्रों में क्लाइव ने द्वैध शासन को लागू किया।  यह 1772 तक चलता रहा। वारेन हेस्टिग्स ने आते ही इसे समाप्त कर दिया।

क्लाइव ने सैनिक सुधारों की ओर ध्यान दिया। उसने सिपाहियों को युद्धकाल में मिलने वाला दोहरा भत्ता बंद कर दिया। जनवरी 1766 ई. से यह भत्ता मात्र उन सैनिकों को दिया जाना तय हुआ जो बंगाल एवं बिहार की सीमा से बाहर कार्य करते थे। इससे सेना में असन्तोष फैला और मुंगेर तथा इलाहाबाद स्थित अंग्रेज (श्वेत) अधिकारियों ने इस आज्ञा के विरूद्ध विद्रोह किया, जिसे श्वेत विद्रोह कहते हैं। क्लाइव ने बड़ी चतुराई से विद्रोह को दबा लिया।

क्लाइव ने राजस्व एवं प्रशासनिक सुधार के लिए नियम बनाये। पर्सीवल स्पीयर ने क्लाइव को “भविष्य का अग्रदूत” कहा। भारत से जाने के बाद इंग्लैंड में क्लाइव ने आत्महत्या कर ली।

अन्य बंगाल के गवर्नर

क्लाइव के बाद हॉलवेल कार्यवाहक गवर्नर बना। ब्लैक होल की घटना का वर्णन इसी ने किया था। इसके बाद हेनरी वेंसिटार्ट बंगाल का गवर्नर नियुक्ति हुआ। बक्सर युद्ध के समय ये बंगाल का गवर्नर था। जॉन कर्टियर के समय 1770 ई. बंगाल में अकाल पड़ा था। वारेन हेस्टिंग्स बंगाल का अंतिम गवर्नर था। इसने बंगाल में द्वैध शासन-व्यवस्था को समाप्त किया। रेग्यूलेटिंग एक्ट-1773 के तहत ये बंगाल का प्रथम गवर्नर जनरल बना।

Important Questions

किस ब्रिटिश गवर्नर को ‘भविष्य का अग्रदूत’ एवं भारत में “अंग्रेजी साम्राज्य का अग्रगामी” कहा जाता है?

राबर्ट क्लाइव को

बक्सर का युद्ध किस बंगाल गवर्नर के काल में हुआ था?

वेन्सिटार्ट के

बंगाल के किस गवर्नर ने इंग्लैण्ड में जाकर आत्महत्या कर ली?

राबर्ट क्लाइव ने

भारत में न्यायिक सेवा का जनक किसे माना जाता है?

वारेन हेस्टिंग्स को

किस संधि द्वारा बनारस पर अंग्रेजी सर्वोच्चता स्वीकार की गई?

फैजाबाद की संधि (1775)

बंगाल का वह एक मात्र गवर्नर और गवर्नर जनरल कौन था, जिस पर बर्क ने इंग्लैण्ड में महाभियोग का मुकदमा दायर किया था?

लार्ड वारेन हेस्टिंग्स

बंगाल का अंतिम गवर्नर कौन था?

वारेन हेस्टिंग्स बंगाल का अन्तिम गवर्नर था। हेस्टिंग्स 1772 से 1773 तक बंगाल के गवर्नर के रूप में रहा इसके बाद उसे बंगाल का गवर्नर जनरल बना दिया गया।

Related Posts

1857 की क्रान्ति के कारण-Causes of the Revolt of 1857

1857 की क्रान्ति कोई अचानक भड़का हुआ विद्रोह नहीं था। वरन इसके पीछे अनेक आधारभूत कारण थे। यद्यपि तत्कालीन “अंग्रेज तथा भारतीय” इतिहासकारों ने सैनिक असन्तोष तथा चर्बी वाले कारतूसों…

Read more !

मौर्य वंश के शासक

नन्द वंश के अन्तिम शासक धनानन्द को पराजित कर चन्द्रगुप्त मौर्य ने मगध राज्य में मौर्य वंश की स्थापना की। यूनानी साहित्य में चन्द्रगुप्त को “सैन्ड्रोकोट्स” कहा गया है।  …

Read more !

सन्यासी विद्रोह-Sanyasi Rebellion

सन्यासी विद्रोह 1763 ई. से प्रारम्भ होकर 1800 ई. तक चला। यह बंगाल के गिरि सम्प्रदाय के सन्यासियों द्वारा शुरू किया गया था। इसमें जमींदार, कृषक तथा शिल्पकारों ने भी…

Read more !

कुतुबुद्दीन ऐबक का जीवन-Biography of Qutubuddin Aibak

कुतुबुद्दीन ऐबक का जन्म तुर्किस्तान में हुआ था। वह बचपन में ही अपने परिवार से बिछड़ गया। उसे एक व्यापारी निशापुर के बाजार में लाया। जहाँ काजी फखदुद्दीन अब्दुल अजीज…

Read more !

Wood despatch in hindi

Wood despatch अथवा वुड का घोषणा पत्र 1854 ई. में भारतीय शिक्षा के विकास के लिए प्रस्तुत किया गया। इसे भारतीय शिक्षा का “मैग्नाकार्टा” कहा गया। बोर्ड ऑफ कन्ट्रोल के…

Read more !